8-10 अक्टूबर 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

10 Oct, 2017

947 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) वर्ष 2017 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार (2017 Nobel Prize for Economics) किस अर्थशास्त्री को प्रदान किया जायेगा, जिसके बारे में रॉयल स्वीडिश अकादमी ऑफ साइंसेज़ ने 9 अक्टूबर 2017 को घोषणा की? – रिचर्ड थेलर (Richard Thaler)

विस्तार: अमेरिकी अर्थशास्त्री रिचर्ड थेलर (Richard Thaler) को आर्थिक व्यवहार में मनोविज्ञान (Behavioural Economics) की भूमिका पर प्रकाश डालने के लिए वर्ष 2017 का अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार प्रदान किया जायेगा। 9 मिलियन स्वीडिश क्रोनर (लगभग 1.1 मिलियन अमेरिकी डॉलर) मूल्य का यह पुरस्कार उन्हें इसलिए दिया जा रहा है क्योंकि उनके अनुसंधान ने निर्णय की प्रक्रिया में आर्थिक और मनोवैज्ञानिक विश्लेषण के बीच सेतु बनाने का काम किया है। थेलर से जुड़ा एक और महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि उन्होंने नवम्बर 2016 में भारत में नोटबंदी (Demonetization) के कदम का समर्थन किया था हालांकि इसके बाद 2000 रुपए के नोट को जारी करने को अनुचित बताया था।

उल्लेखनीय है कि अर्थशास्त्र के नोबेल पुरस्कार का आधिकारिक नाम ‘Sveriges Riksbank Prize in Economic Sciences’ है तथा इसकी स्थापना 1968 में की गई थी। डाइनेमाइट की खोज करने वाले वैज्ञानिक तथा व्यवसायी अल्फ्रेड नोबेल (Alfred Nobel) ने जब 1895 की वसीयत में इन पुरस्कारों की घोषणा की थी तब उसमें अर्थशास्त्र का नोबेल शामिल नहीं था।

………………………………………………………………

2) जीएसटी कम्पोज़ीशन योजना (GST Composition scheme) को अधिक आकर्षक बनाने और रेस्टॉरेण्ट्स में वसूली जाने वाली जीएसटी दरों को अधिक तार्किक बनाने के लिए इसका आकलन करने के लिए केन्द्र सरकार ने 6 अक्टूबर 2017 को राज्य के मंत्रियों के एक समूह (group of ministers – GoM) का गठन किया। इस समूह की अध्यक्षता किसे सौंपी गई है? – हिमंत बिश्व शर्मा (Himanta Biswa Sarma)

विस्तार: असम के वित्त मंत्री हिमंत बिश्व शर्मा (Himanta Biswa Sarma) को राज्य के मंत्रियों के उस समूह (GoM) का अध्यक्ष बनाया गया है जिसका गठन जीएसटी परिषद (GST Council) ने 6 अक्टूबर 2017 को करते हुए उसे जीएसटी कम्पोज़ीशन योजना को अधिक आकर्षक बनाने और रेस्टॉरेण्ट्स में वसूली जाने वाली जीएसटी दरों को अधिक तार्किक बनाने के लिए इसका आकलन करने का काम सौंपा है। इस समूह को 2 सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है।

मंत्रियों के इस समूह में शामिल अन्य सदस्य हैं बिहार के उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi), जम्मू व कश्मीर के वित्त मंत्री  हसीब ड्राबू (Haseeb Drabu), पंजाब के वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल (Manpreet Singh Badal) और छत्तीसगढ़ के वाणिज्य कर मंत्री अमर अग्रवाल (Amar Agrawal)।

उल्लेखनीय है कि जीएसटी के तहत पंजीकरण कराने वाले कुल 98 व्यवसायियों में से मात्र 15.50 ने जीएसटी कम्पोज़ीशन योजना के तहत पंजीकरण कराया है तथा अब केन्द्र सरकार उक्त योजना को अधिक आकर्षक बनाना चाहती है।

मंत्रियों के इस समूह को रेस्टोरेण्ट्स में वसूली जाने वाली जीएसटी दरों को भी अधिक तर्कसंगत बनाने का काम सौंपा गया है। फिलहाल वातानुकूलित रेस्टोरेण्ट्स में 18% जीएसटी तथा गैर-वातानुकूलित रेस्टोरेण्ट्स में 12% जीएसटी वसूली जा रही है।

………………………………………………………………

3) निजी क्षेत्र का कौन सा बैंक का बाजार पूंजीकरण (market capitalization) 9 अक्टूबर 2017 को 2 ट्रिलियन रुपए (2 trillion rupees) का आंकड़ा पार कर गया जिससे वह यह आंकड़ा पार करने वाला देश का चौथा बैंकिंग उपक्रम बन गया? – कोटक महिन्द्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank)

विस्तार: निजी क्षेत्र के कोटक महिन्द्रा बैंक (Kotak Mahindra Bank) का बाजार पूँजीकरण (market capitalization) 9 अक्टूबर 2017 को 2 ट्रिलियन रुपए (2 लाख करोड़ रुपए) के आंकड़े को पार कर गया। इसके चलते यह बैंक यह आंकड़ा पार करने वाला देश का चौथा बैंक बन गया। इसके अलावा यह बैंक यह आंकड़ा पार करने वाली देश की 21वीं कम्पनी भी बन गया है।

इससे पहले एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank), आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) और भारतीय स्टेट बैंक (SBI) बाजार पूंजीकरण का यह आंकड़ा पार कर चुके हैं। वहीं कुल 5.29 ट्रिलियन बाजार पूंजीकरण के साथ रिलायंस इण्डस्ट्रीज़ लिमिटेड (RIL) भारत की सबसे मूल्यवान कम्पनी बनी हुई है तथा क्रमश: इसके बाद टाटा कनसल्टेंसी सर्विसेज़ – TCS (4.70 ट्रिलियन रुपए) और एचडीएफसी बैंक – HDFC Bank (4.64 ट्रिलियन रुपए) का स्थान है।

………………………………………………………………

4) अक्टूबर 2017 के दौरान जारी की गई ब्राण्ड फाइनेंस (Brand Finance) की दुनिया के सबसे मूल्यवान देशों की ‘Nation Brands 2017’ नामक रैंकिंग में भारत को किस पायदान पर रखा गया है? – आठवाँ

विस्तार: ब्राण्ड फाइनेंस की वर्ष 2017 की दुनिया की सबसे मूल्यवान देशों की रैंकिंग (Nation Brands 2017) में भारत पिछले साल के मुकाबले एक पायदान फिसल कर आठवें स्थान पर पहुँच गया है। पिछले साल आठवें स्थान पर काबिज कनाडा (Canada) ने भारत से सातवां स्थान छीन लिया है। भारत की ब्राण्ड कीमत में जहाँ 1 प्रतिशत की कमी आई वहीं कनाडा ने अपनी ब्राण्ड कीमत में 14% की वृद्धि की है।

इस सूची में अमेरिका (USA) पहले की तरह पहले स्थान पर है जबकि 2017 में सबसे तेज़ वृद्धि दर्ज करने वाला चीन (China) दूसरे स्थान पर है। इस साल चीन की ब्राण्ड वैल्यू में 44% की वृद्धि दर्ज हुई है।

………………………………………………………………

5) सुप्रसिद्ध फिल्म निर्देशक कुंदन शाह (Kundan Shah) का 69 वर्ष की आयु में 7 अक्टूबर 2017 को निधन हो गया। उनकी सर्वाधिक ख्याति किस फिल्म से मिली थी? – जाने भी दो यारों”

विस्तार: कुंदन शाह की फिल्म “जाने भी दो यारों” (‘Jaane Bhi Do Yaaro’) को भारतीय फिल्मों के इतिहास में एक मील का पत्थर माना जाता है। उन्होंने पुणे स्थित भारतीय फिल्म एवं टेलीविज़न संस्थान (FTII) में निर्देशन का कोर्स किया था तथा उसी समय संस्थान के तमाम कलाकारों को साथ लेकर 1983 में “जाने भी दो यारों” का निर्माण किया था।

हालांकि यह फिल्म बॉक्स ऑफिस पर कोई विशेष उपलब्धि हासिल नहीं कर पाई थी लेकिन बाद में इसके अद्वितीय व्यंग्य तथा डार्क कॉमेडी के कारण इसकी गणना भारतीय फिल्म इतिहास की कुछ अभूतपूर्व फिल्मों में होने लगी।

कुंदन शाह की अन्य प्रमुख फिल्में हैं 1993 की “कभी हां – कभी ना” (जिसमें शाहरुख खान मुख्य अभिनेता थे) और वर्ष 2000 की “क्या कहना” जिसमें प्रीती ज़िंटा को एक बेहद सशक्त भूमिका में दिखाया गया था। उन्होंने 1986 में आए दूरदर्शन के बेहद लोकप्रिय सीरियल “नुक्क्ड़” का सह-निर्देशन भी किया था। इसके बाद उनके सह-निर्देशन में आया एक और बेहद लोकप्रिय सीरियल “वागले की दुनिया” था जिसमें आम-आदमी के जीवन को बेहद खूबसूरती से दिखाया गया था।

………………………………………………………………

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | अक्टूबर 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.