4-6 जनवरी 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

06 Jan, 2017

2051 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) 104वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 3 जनवरी 2017 को किया। इस प्रतिष्ठित आयोजन का यह नवीनतम संस्करण कहाँ आयोजित किया जा रहा है? – तिरुपति (आन्ध्र प्रदेश)

विस्तार: तिरुपति (Tirupati) स्थित श्री वेंकटेश्वरा विश्वविद्यालय (Sri Ventakteswara University) में 104वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस (104th Indian Science Congress – ISC) का आयोजन 3 से 7 जनवरी 2017 के बीच किया जा रहा है। इस कांग्रेस का उद्घाटन 3 जनवरी 2017 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया तथा इस अवसर पर उन्होंने देश-विदेश से आए तमाम प्रतिष्ठित वैज्ञानिकों को इस विश्वविद्यालय के तारकरामा स्टेडियम में अपना उद्घाटन सम्बोधन दिया।

कांग्रेस की आयोजन समिति के द्वारा जारी जानकारी के अनुसार इस आयोजन में विभिन्न देशों के 6 नोबेल पुरस्कार विजेताओं समेत कुल 14,000 वैज्ञानिक भाग ले रहे हैं। यह दूसरा मौका है जब इस प्रतिष्ठित कांग्रेस को तिरुपति में आयोजित किया जा रहा है। इससे पूर्व 1973 में 70वीं भारतीय विज्ञान कांग्रेस का आयोजन भी तिरुपति में किया गया था।

…………………………………………………………….

2) सिखों के दसवें गुरू – गुरू गोबिन्द सिंह (Guru Gobind Singh) की किस ऐतिहासिक जयंती से सम्बन्धित कार्यक्रमों का समापन 5 जनवरी 2017 को भव्य कार्यक्रमों की श्रृंखला के रूप में हुआ? – 350वीं

विस्तार: गुरू गोबिन्द सिंह, जोकि सिख समुदाय के दसवें थे, की ऐतिहासिक 350वीं जयंती से सम्बन्धित तमाम कार्यक्रमों का समापन 5 जनवरी 2017 को हुआ। मुख्य कार्यक्रम का आयोजन बिहार की राजधानी पटना (Patna) में किया गया।

इस ऐतिहासिक अवसर पर पटना साहिब (Patna Sahib) गुरुद्वारे में विशाल 350वें प्रकाश-पर्व का आयोजन किया गया। इसी स्थान पर गुरू गोबिन्द सिंह का जन्म 22 दिसम्बर 1666 ई. को हुआ था। वहीं पटना के गाँधी मैदान में 61-एकड़ विशाल क्षेत्र में एक विशाल प्रार्थना तथा लंगर का आयोजन किया गया जिसमें देश-विदेश से आए लगभग 5-लाख सिख तथा अन्य सभी समुदाय के लोगों ने भाग लिया।

गुरू गोबिन्द सिंह सिख मान्यता के दसवें गुरू थे तथा उन्होंने ही घोषणा की थी कि उनके बाद “आदि ग्रन्थ – गुरु ग्रन्थ साहिब” को समस्त सिख समुदाय का गुरू माना जायेगा। इस उद्घोषणा को “गुरू मान्यो ग्रन्थ” के नाम से जाना जाता है।

उनकी शिक्षा मुख्यत: गुरू नानक तथा अन्य गुरुओं के उपदेशों का ही अनुसरण करती है। लेकिन उन्हें खालसा (यानि खालिस अथवा शुद्ध) नामक नए पंथ की स्थापना के लिए सर्वाधिक जाना जाता है।

…………………………………………………………….

3) 4 जनवरी 2017 को किसने संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के नए अध्यक्ष (Chairman) का पदभार ग्रहण किया? – प्रो. डेविड आर. सियेम्लेह (Prof. David R. Syiemlieh)

विस्तार: प्रख्यात इतिहासकार प्रो. डेविड आर. सियेम्लेह (Prof. David R. Syiemlieh_ को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने 3 जनवरी 2017 को संघ लोक सेवा आयोग (Union Public Service Commission – UPSC) का नया अध्यक्ष (Chairman) नियुक्त कर दिया। उन्होंने 4 जनवरी को अपना पद संभाल लिया। वे अभी तक आयोग में सदस्य के रूप में कार्यरत थे तथा उन्होंने भूतपूर्व प्रशासनिक अधिकारी अलका सिरोही (Alka Sirohi) का स्थान लिया।

प्रो. सियेम्लेह 21 जनवरी 2018 तक इस पद पर रहेंगे। वे मेघालय (Meghalaya) के खासी समुदाय (Khasi community) से आते हैं तथा इस प्रतिष्ठित पद तक पहुँचने वाले मेघालय के दूसरे व्यक्ति हैं। इससे पहले 1992 में रोज़ मिलियन बैथ्यू (Rose Millian Bathew) ने जब यह पद संभाला था तब वे यह गौरव प्राप्त करने वाली मेघालय की पहली हस्ती के साथ इस पद पर पहुँचने वाली पहली महिला भी थीं। वे 1996 तक इस पद पर रही थीं।

UPSC भारत की तमाम प्रतिष्ठित अखिल भारतीय सेवाओं व केन्द्रीय सेवाओं की प्रवेश परीक्षाओं का आयोजन करने वाली केन्द्रीय एजेंसी है। इसमें एक अध्यक्ष तथा 10 सदस्य होते हैं।

…………………………………………………………….

4) दिग्गज इंटरनेट कम्पनी गूगल (Google) ने भारत के लघु एवं मध्यम व्यवसायों (SMBs) को इंटरनेट की मदद से उद्यमिता को विस्तारित करने के उद्देश्य से कौन से दो नए प्रयास शुरू करने की घोषणा 4 जनवरी 2017 को की? – “डिज़िटल अनलॉक्ड” और “माई बिज़नेस वेबसाइट्स”

विस्तार: “डिज़िटल अनलॉक्ड” (‘Digital Unlocked’) और “माई बिज़नेस वेबसाइट्स” (‘My Business Websites’) उन दो नए प्रयासों का नाम है जिसे गूगल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) सुंदर पिचई (Sundar Pichai) ने 4 जनवरी 2017 को भारत में शुरू करने की घोषणा की। इन दो प्रयासों के साथ गूगल ने भारत के लघु तथा मध्यम व्यवसायों (small and medium businesses – SMBs) को इंटरनेट की शक्ति से परिचित करा कर तथा जोड़ कर उनका सशक्तीकरण सुनिश्चित करने का खाका तैयार किया है।

इन प्रयासों को शुरू करने के संदर्भ में गूगल ने KPMG के साथ किए गए एक संयुक्त शोध के परिणामों का उल्लेख करते हुए बताया कि भारत में 5.1 करोड़ लघु व मध्यम व्यवसायों में से लगभग 68% ऑनलाइन नहीं है। इसके पीछे मुख्य कारण डिज़िटल प्रौद्यौगिकी की शक्ति से परिचित न होना तथा अपेक्षित तकनीकी ज्ञान न होना है। ऐसे व्यवसायों को इंटरनेट से जोड़ना न सिर्फ उनकी उद्यमिता को बढ़ावा देगा बल्कि देश की आय में भी अभूतपूर्व वृद्धि का कारक बन सकता है।

इस सम्बन्ध में जारी किए गए “डिज़िटल अनलॉक्ड” (‘Digital Unlocked’) प्रयास के तहत लघु एवं मध्यम व्यवसायों को डिज़िटल कौशल (digital skills) में पारंगत कर उनका सशक्तीकरण सुनिश्चित करने का प्रयास किया जायेगा। इसके लिए एक एप्लीकेशन लांच किया जायेगा जो शुरू में हिंदी तथा अंग्रेजी में इंटरएक्टिव तरीके से व्यवसायियों को डिज़िटल मार्केटिंग की पद्धतियों (digital marketing skills) को सिखायेगा। बाद में मराठी, तमिल व तेलुगु भाषाओं में भी इसे लाँच किया जायेगा।

वहीं “माई बिज़नेस वेबसाइट्स” (‘My Business Websites’) में इन छोटे व्यवसायियों को आसानी से मोबाइल-ऑप्टिमाइज़्ड नि:शुल्क वेबसाइट तैयार करने की सुविधा प्रदान की जायेगी। इसमें गूगल मैप्स (Google Maps) जैसी सुविधाओं को संयोजित कर तैयार टैम्प्लेट उपलब्ध कराए जायेंगे। यह सुविधा लगभग सभी प्रमुख भाषाओं में उपलब्ध कराई गई है।

…………………………………………………………….

5) किस भारतीय मूल के ट्रस्टी को दुनिया की सबसे बड़ी तथा शक्तिशाली परोपकारी संस्था के रूप में जानी जाने वाली अमेरिका की रॉकफेलर फाउण्डेशन (Rockefeller Foundation) का अगला अध्यक्ष (President) 5 जनवरी 2017 को नियुक्त किया गया? – राजीव जे. शाह (Rajiv J. Shah)

विस्तार: राजीव जे. शाह (Rajiv J. Shah) को 5 जनवरी 2017 को रॉकफेलर फाउण्डेशन (Rockefeller Foundation) का अगला अध्यक्ष (President) नियुक्त किया गया। वे पिछले 12 वर्षों से इस पद को संभाल रही जुडिथ रॉडिन (Judith Rodin) का स्थान लेंगे। इस नियुक्ति के साथ 43-वर्षीय शाह रॉकफेलर फाउण्डेशन के अध्यक्ष बनने वाले सबसे कम आयु के व्यक्ति के साथ-साथ भारतीय मूल के पहले व्यक्ति भी होंगे।

उल्लेखनीय है कि रॉकफेलर फाउण्डेशन परोपकारी कार्यों के लिए दान देने वाली अमेरिका तथा दुनिया की प्रमुख संस्थाओं में से एक माना जाता है। इसकी स्थापना 1913 में अमेरिका के दिग्गज तेल व्यवसायी जॉन डी. रॉकफेलर (John D. Rockefeller) ने की थी। फाउण्डेशन के अनुसार उसने अब तक लगभग 17 अरब डॉलर ($17 billion) परोपकारी कार्यों के लिए दान में प्रदान किए हैं तथा वर्तमान में वह हर वर्ष लगभग 20 करोड़ डॉलर ($200 million) दान करती है।

रॉकफेलर फाउण्डेशन के ट्रस्टी बनने के पूर्व राजीव जे. शाह USAIDS के साथ जुड़े थे। उन्होंने लगभग एक दशक तक बिल एण्ड मेलिण्डा गेट्स फाउण्डेशन के साथ भी कार्य किया है।

…………………………………………………………….

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | जनवरी 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.