30-31 अगस्त 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

31 Aug, 2017

1462 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) केन्द्र सरकार ने 30 अगस्त 2017 को घोषणा की कि भारतीय थलसेना (Indian Army) की युद्धक क्षमता (combat capability) में संवृद्धि करने और उसके खर्चों को वस्तुपरक व अनुकूल (optimize) बनाने के उद्देश्य से सेना में व्यापक सुधार शुरू किए जायेंगे। सुधारों का यह ऐतिहासिक कदम इस विषय पर बनी किस समिति की सिफारिशों को मानते हुए उठाया जा रहा है? – डी.बी. शेकटकर समिति (D.B. Shekatkar Committee)

विस्तार: ले. जनरल डी.बी. शेकटकर (सेवानिवृत्त) की अध्यक्षता में 11-सदस्यीय समिति का गठन केन्द्र सरकार ने 20 मई 2016 को किया था। इस समिति को ऐसे उपाय सुझाने का काम सौंपा गया था जिससे भारतीय थलसेना की युद्धक क्षमता में वृद्धि की जा सके तथा प्रतिरक्षा खर्चों को अधिक संतुलित तथा वस्तुपरक किया जा सके।

डी.बी. शेकटकर समिति D.B. Shekatkar Committee) ने अपनी सिफारिशें तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को 21 दिसम्बर 2016 को सौंपी थीं। समिति ने रिपोर्ट सौंपते हुए यह कहा था कि यदि इन सिफारिशों को ईमानदारी से लागू किया जाए तो अगले 5 वर्षों में 25,000 करोड़ रुपए तक की बचत की जा सकती है।

30 अगस्त 2017 को रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने घोषणा की कि समिति द्वारा की गई सिफारिशों में से 65 को लागू किया जायेगा। सेना में सुधारों से सम्बन्धित इन उपायों में शामिल कुछ प्रमुख उपाय हैं – 57,000 सैनिकों की तैनाती में बदलाव करना, सेना के संचार माध्यमों को कुशल बनाना, 39 मिलिट्री फॉर्मों को बन्द कर इन फॉर्मों द्वारा घेरी जमीन का बेहतर उपयोग करना, आपूर्ति व परिवहन जैसे तंत्रों को अधिक कार्यकुशल बनाना तथा सैन्य डाक विभाग (military postal department) जैसे उपक्रमों को बंद करना।

यह पहली बार होगा जब भारतीय थलसेना के परिचालन में ऐसे सुधार किसी केन्द्र सरकार द्वारा लागू किए जा रहे हैं। इस सम्बन्ध में तमाम प्रतिरक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि यह उपाय बहुत पहले अपनाए जाने चाहिए थे।

……………………………………………………………….

2) भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा 30 अगस्त 2017 को जारी की गई अपनी वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल अमान्य घोषित किए गए 500 व 1000 रुपए के करेंसी नोटों का कितना प्रतिशत भाग उसके पास वापस लौट आया है? – 98.96%

विस्तार: भारतीय रिज़र्व बैंक की वार्षिक रिपोर्ट (Annual Report) में उल्लेख किया गया है कि अमान्य घोषित किए गए 500 व 1000 रुपए के करेंसी नोटों का 98.96% उसके पास जून 2017 के अंत तक वापस आ गया है। 30 अगस्त 2017 को जारी इस रिपोर्ट के अनुसार इन दो प्रकार के अमान्य नोटों का कुल परिचालन मूल्य 15.44 ट्रिलियन था जबकि विमुद्रीकरण (Demonetization) की घोषणा के बाद 30 जून 2017 तक जमा इन नोटों का कुल मूल्य 15.28 ट्रिलियन है।

उल्लेखनीय है कि 8 नवम्बर 2016 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा एक झटके में 500 व 1000 रुपए के नोटों को बंद करने की घोषणा तथा ऐसे नोटों को वापस जमा करने से सम्बन्धित तमाम शर्तों के चलते माना जा रहा था कि काला धन रखने वाले तमाम लोग पकड़े जाने के डर से अपना धन वापस जमा नहीं करेंगे। लेकिन आरबीआई द्वारा जारी इन आंकड़ों को देखने से स्पष्ट हो जाता है कि लगभग पूरी करेंसी केन्द्रीय बैंक के वापस आ गई है तथा इससे विमुद्रीकरण के निर्णय की उपयोगिता पर प्रश्न-चिह्न भी लग रहे हैं।

……………………………………………………………….

3) भारत के सबसे लम्बे झूलते हुए पुल (India’s longest hanging bridge) का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 29 अगस्त 2017 को किया। यह पुल कहाँ स्थित है? – कोटा (राजस्थान)

विस्तार: राजस्थान (Rajasthan) के कोटा (Kota) में चम्बल नदी (Chambal River) पर बनाए गए देश के सबसे लम्बे झूलते हुए पुल का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 29 अगस्त 2017 को किया। उन्होंने उदयपुर में एक रिमोट का बटन दबाकर पुल का उद्घाटन किया। इस नवनिर्मित पुल को “कोटा बाइपास ब्रिज” (“Kota Bypass Bridge”) के नाम से जाना जाता है तथा यह कोटा शहर के बाहरी क्षेत्र में चम्बल नदी के ऊपर बनाया गया है।

इस पुल की कुल लम्बाई 1.5 किलोमीटर है। इसे लोहे के मोटे तारों से साधा गया है तथा झूलते हुए मुख्य भाग की लम्बाई 350 मीटर है। यह चम्बल नदी से लगभग 60 मीटर ऊपर स्थित है।

वैसे कोटा स्थित इस पुल का काम वर्ष 2007 में शुरू हुआ था तथा इसे 2012 में पूरा हो जाना था लेकिन वर्ष 2009 में हुए एक भीषण दुर्घटना तथा अन्य कारणों के चलते इसका काम खिंचता गया। 2009 के हादसे में पुल पर काम कर रहे 48 कर्मचारियों की मौत हुई थी।

……………………………………………………………….

4) उस खतरनाक श्रेणी के उष्णकटिबन्धीय तूफान (tropical storm) का क्या नाम है जिसके कारण अगस्त 2017 के दौरान अमेरिका के दक्षिण-पूर्वी टैक्सास में अकल्पनीय बारिश और बाढ़ के कारण कई लोगों की मौत हो गई? – हार्वी (Harvey)

विस्तार: हार्वी (Harvey) उस उष्णकटिबन्धीय तूफान को दिया गया नाम है जो अमेरिका में पिछले 12 सालों में टकराने वाला ऐसा पहला तूफान है। इससे पहले इस श्रेणी का आया अंतिम तूफान विल्मा (Wilma) था जो वर्ष 2005 में आया था। यह तूफान सबसे पहले 17 अगस्त 2017 को एक छोटे चक्रवात के रूप में देखा गया था लेकिन लगातार मजबूत होते हुए 25 अगस्त 2017 को इसे श्रेणी 4 का तूफान घोषित कर दिया गया। इसके कुछ घण्टे के बाद यह तूफान टैक्सास के रॉकपोर्ट (Rockport) के पास टकराते हुए प्रविष्ट हो गया।

हार्वी के कारण दक्षिण-पूर्वी टैक्सास (Southeastern Texas) और ग्रेटर ह्यूस्टन (Greater Houston) में भीषण बाढ़ के कारण भारी तबाही हुई और कम से कम 29 लोगों की मौत हो गई। प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार इस तूफाने के कारण अमेरिकी अर्थव्यवस्था को 10 से 50 अरब डॉलर तक का नुकसान हुआ है।

……………………………………………………………….

5) केन्द्र सरकार ने 29-30 अगस्त 2017 को सार्वजनिक क्षेत्र के किस उपक्रम में अपनी 5% हिस्सेदारी का विनिवेश (Disinvest) कर लगभग 7,000 करोड़ रुपए हासिल किए? – एनटीपीसी (NTPC)

विस्तार: केन्द्र सरकार ने 29 और 30 अगस्त 2017 को देश के सबसे बड़े ऊर्जा उत्पादक उपक्रम सार्वजनिक क्षेत्र के एनटीपीसी (NTPC) में अपनी 5% हिस्सेदारी का विनिवेश किया। ऑफर-फॉर-सेल (OFS) माध्यम से किए गए इस विनिवेश के द्वारा कुल 41.22 करोड़ शेयर 168 रुपए की कीमत पर बेचे गए।

बिक्री के पहले दिन यानि 29 अगस्त 2017 को संस्थागत निवेशकों (institutional investors) को 32.98 करोड़ शेयर बेचे गए जिसके लिए 46.35 करोड़ शेयर्स के लिए बोली लगी। 30 अगस्त 2017 को खुदरा निवेशकों को 8.24 करोड़ शेयर्स बेचे गए।

उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार की एनटीपीसी में 30 जून 2017 तक कुल हिस्सेदारी 69.74% थी। वर्ष 2017-18 के दौरान केन्द्र सरकार ने विनिवेश के द्वारा 72,500 करोड़ रुपए अर्जित करने का लक्ष्य बनाया है।

……………………………………………………………….

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | अगस्त 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.