28-31 अक्टूबर 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

31 Oct, 2017

1504 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) भारतीय रेल (Indian Railway) ने किन चार रेलवे स्टेशनों पर पहली बार सौर-ऊर्जा संयंत्रों का संचालन 27 अक्टूबर 2017 से शुरू किया जिनके द्वारा कुल 5 मेगावॉट पीक (5 MWp) ऊर्जा का उत्पादन किया जायेगा? – नई दिल्ली, दिल्ली, हजरत निज़ामुद्दीन और आनंद विहार

विस्तार: रेल मंत्री पियूष गोयल ने राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (NCR) के चार रेलवे स्टेशनों पर सौर-ऊर्जा संयंत्रों का संचालन 27 अक्टूबर 2017 से शुरू किया। ये चार स्टेशन हैं – नई दिल्ली (New Delhi), दिल्ली (Delhi), हजरत निज़ामुद्दीन (Hazrat Nizamuddin) और आनंद विहार (Anand Vihar) तथा इन स्टेशनों की छतों पर सोलर पैनल लगाए गए हैं जिसके द्वारा संयुक्त रूप से प्रतिवर्ष 76.5 लाख यूनिट सौर ऊर्जा का उत्पादन किया जायेगा। इस ऊर्जा से इन स्टेशनों की लगभग 30% ऊर्जा आवश्यकता पूरी होगी।

केन्द्र सरकार के राष्ट्रीय सोलर मिशन (National Solar Mission) के तहत क्रियान्वित इस परियोजना को दिसम्बर 2016 में 37.45 करोड़ रुपए की लागत से शुरू किया गया था। सार्वजनिक-निजी भागीदारी (publi-private partnership – PPP) मॉडल के तहत क्रियान्वित इस परियोजना के द्वारा भारतीय रेल को प्रतिवर्ष 4.21 करोड़ रुपए की बचत होने का अनुमान है तथा इससे प्रतिवर्ष 6082 टन कार्बन (CO) उत्सर्जन कम होने का अनुमान है। भारतीय रेल पूरे देश में 1000 मेगावॉट पीक (1000 MWp) क्षमता के सौर ऊर्जा संयंत्र रेलवे स्टेशनों पर लगाने जा रही है।

……………………………………………………………

2) किस देश ने 28 अक्टूबर 2017 को सम्पन्न वर्ष 2017 का फीफा अण्डर-17 फुटबॉल विश्व कप (FIFA U-17 Football World Cup) खिताब जीतकर यह प्रतिष्ठित प्रतियोगिता पहली बार जीतने का गौरव हासिल किया? – इंग्लैण्ड (England)  

विस्तार: कोलकाता के युवाभारती क्रीड़ांगन (Salt Lake Stadium) में 28 अक्टूबर 2017 को हुए फाइनल में इंग्लैण्ड (England) ने शानदार वापसी करते हुए दो गोलों से पिछड़ने के बावजूद स्पेन (Spain) को 5-2 से हराकर पहली बार फीफा अण्डर-17 फुटबॉल विश्व कप (FIFA U-17 Football World Cup 2017) जीत लिया। यूरोप की चैम्पियन अण्डर-17 टीम स्पेन को तीसरी बार फाइनल में पराजित होना पड़ा।

इंग्लैण्ड के लिए पांच गोल रिहान ब्रेव्स्टर (44वाँ मिनट), मॉर्गन गिब्स व्हाइट (58वाँ मिनट), फिल फोडेन (69वाँ और 88वाँ मिनट) और मार्क गुहेली (84वाँ मिनट)। इससे पहले स्पेन ने 31वें मिनट तक सर्जियो गोमेज़ के दो गोलों की मदद से 2-0 की बढ़त ले ली थी। लेकिन इंग्लैण्ड ने बाद में अप्रत्याशित वापसी करते हुए मुकाबले के साथ-साथ यह प्रतिष्ठित खिताब भी पहली बार जीता।

फाइनल में मिली यह जीत इंग्लैण्ड के लिए यूरोपियन अण्डर-17 चैम्पियनशिप के फाइनल में स्पेन के हाथों मिली हार का बदला भी रही। उल्लेखनीय है कि इंग्लैण्ड ने इसी वर्ष फीफा अण्डर-20 विश्व कप का खिताब भी जीता है।

इससे पहले तीसरे स्थान के लिए हुए मुकाबले में ब्राज़ील (Brazil) ने माली (Mali) को 2-0 से हराकर तीसरा स्थान हासिल किया।

……………………………………………………………

3) 28 अक्टूबर 2017 को सम्पन्न हुए फीफा अण्डर-17 विश्व कप में किस खिलाड़ी को टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी (Best player of the Tournament) चुना गया? – फिल फोडेन (Phil Foden)

विस्तार: इंग्लैण्ड (England) के खिलाड़ी फिल फोडेन (Phil Foden) को फीफा अण्डर-17 विश्व कप 2017 का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना गया। फाइनल मैच में अपनी टीम के लिए दो शानदार गोल करने वाले फोडेन ने टूर्नामेण्ट में कुल तीन गोल करने के अलावा अपनी टीम के आक्रामक शैली अपनाने में अहम भूमिका निभाई।

वहीं इंग्लैण्ड के एक और खिलाड़ी रिहान ब्रेव्स्टर (Rhian Brewster) को टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक 8 गोल करने के कारण “गोल्डन बूट” (“Golden Boot”) पुरस्कार से नवाजा गया। ब्राज़ील (Brazil) के गोलकीपर गैब्रियल ब्रज़ाओ (Gabriel Brazão) को टूर्नामेण्ट का सर्वश्रेष्ठ गोलकीपर चुनते हुए “गोल्डन ग्लव्ज़” (“Golden Gloves”) पुरस्कार प्रदान किया गया। वहीं ब्राज़ील की टीम को टूर्नामेण्ट के दौरान सर्वश्रेष्ठ खेल भावना प्रदर्शित करने के लिए “फेयर प्ले अवॉर्ड” (“Fair Play Award”) प्रदान किया गया।

उल्लेखनीय है कि यह फीफा अण्डर-17 विश्व कप का 17वाँ संस्करण था तथा इसका आयोजन 6 से 28 अक्टूबर 2017 के बीच भारत में किया गया। भारत ने इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता का आयोजन पहली बार करते हुए इसे अब तक का सबसे सफल टूर्नामेण्ट बनाया। इसमें विश्व कप में कुल 183 गोल हुए जो किसी भी संस्करण में हुए सर्वाधिक गोल हैं। इसके अलावा टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक दर्शकों (1,347,133) का भी कीर्तिमान बना।

……………………………………………………………

4) एक ऐतिहासिक घटनाक्रम में भारत ने पहली बार ईरान (Iran) के चाबहार (Chahbahar) बंदरगाह के रास्ते अफगानिस्तान (Afghanistan) में किस अनाज की खेप भेजना 29 अक्टूबर 2017 से शुरू किया? – गेहूँ (Wheat)

विस्तार: भारत ने ईरान के चाबहार बंदरगाह का पहली बार इस्तेमाल करते हुए गेहूँ की खेप को अफगानिस्तान भेजना 29 अक्टूबर 2017 से शुरू किया। यह बंदरगाह अफगानिस्तान से व्यापार का नया वैकल्पिक मार्ग है जिसमें बिना पाकिस्तान के सड़क मार्ग और इसके ऊपर से हवाई मार्ग का इस्तेमाल किए ईरान के चाबहार बंदरगाह के माध्यम से अफगानिस्तान से आयात-निर्यात करना संभव हो गया है।

1.1 मिलियन टन की गेहूँ की इस पहली खेप को भारत ने अफगानिस्तान को मदद के तौर पर भेजा है तथा इसको नए मार्ग से भेजने से यह स्पष्ट हो गया कि भारत द्वारा ईरान के चाबहार बंदरगाह के विकास का काम पूरा हो गया है और यह महत्वपूर्ण रणनीतिक मार्ग परिचालन-योग्य हो गया है। उल्लेखनीय है कि भारत ने वर्ष 2003 में ईरान के बंदर अब्बास (Bandar Abbas) बंदरगाह का इस्तेमाल अफगानिस्तान को सामान भेजने के लिए तब किया था जब पाकिस्तान (Pakistan) ने भारत को अपने मार्ग का इस्तेमाल इस उद्देश्य के लिए करने पर पाबंदी लगा दी थी।

……………………………………………………………

5) भारतीय तटरक्षक बल (Indian Coast Guard) के लिए किसी भारतीय निजी उपक्रम द्वारा निर्मित पहले अपतटीय निगरानी पोत (Offshore Patrol Vessel – OPV) आईसीजी विक्रम (ICG Vikram) को 27 अक्टूबर 2017 को लाँच किया गया। इस पोत का निर्माण किस निजी उपक्रम द्वारा किया गया है? – लार्सन एण्ड टूब्रो (Larsen & Toubro – L&T)

विस्तार: भारतीय रक्षा मंत्रालय ने निजी क्षेत्र की दिग्गज इंजीनियरिंग एवं निर्माण कम्पनी लार्सन एण्ड टूब्रो (Larsen & Toubro – L&T) को भारतीय तटरक्षक बल (Indian Coast Guard) के लिए सात अपतटीय निगरानी पोतों के डिज़ाइन और निर्माण का 1,432 करोड़ रुपए का ठेका मार्च 2015 में दिया गया था।

इसी संदर्भ में L&T द्वारा निर्मित आईसीजी विक्रम (ICG Vikram) नामक पहले अपतटीय निगरानी पोत (OPV) को 27 अक्टूबर 2017 को चेन्नई के पास कट्टूपल्ली (Kattupalli) में स्थित L&T के पोर्ट में लाँच किया गया। यह किसी भारतीय निजी उपक्रम द्वारा भारतीय तटरक्षक बल के लिए पूर्णतया डिज़ाइन तथा निर्मित देश का पहला OPV है।

आईसीजी विक्रम की लम्बाई 97 मीटर है, चौड़ाई 15 मीटर, ड्रॉट 3.6 मीटर तथा कुल भार (displacement) 2140 टन है। यह अधिकतम 26 नॉट (knot) की रफ्तार पर चल सकने में सक्षम है। इस पोत की पूरी डिज़ाइन और निर्माण अमेरिकी ब्यूरो ऑफ शिपिंग (American Bureau of Shipping – ABS) और इण्डियन रजिस्ट्रार ऑफ शिपिंग (Indian Registrar of Shipping – IRS) के दोहरे प्रमाणन के अंतर्गत किया गया है। इन 7 पोतों के निर्माण का पर्यवेक्षण भारतीय तटरक्षक बल की एक रेज़ीडेंट टीम द्वारा कट्टुपल्ली बंदरगाह में किया जा रहा है।

……………………………………………………………

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | अक्टूबर 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.