17-18 जनवरी 2018 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

18 Jan, 2018

1180 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) “रायसीना संवाद” (“Raisina Dialogue”) के तृतीय संस्करण का उद्घाटन इज़राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने 16 जनवरी 2018 को नई दिल्ली में किया। इस वार्षिक भू-राजनीतिक सम्मेलन (geo-political conference) के इस संस्करण का थीम क्या है? – “Managing Disruptive Transitions: Ideas, Institutions and Idioms”

विस्तार: भारत की यात्रा पर आए इज़राइली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने “रायसीना संवाद” के तृतीय संस्करण का उद्घाटन नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में 16 जनवरी 2018 को किया। इस तीन-दिवसीय सम्मेलन के इस वर्ष के संस्करण का थीम है – “Managing Disruptive Transitions: Ideas, Institutions and Idioms”। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कहा कि आज की तारीख में ताकतवर होना बहुत जरूरी है, क्योंकि इस दुनिया में कमजोर का बचा रह पाना बहुत मुश्किल है।

सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज मौजूद थीं। इस सम्मेलन का आयोजन विदेश मंत्रालय और ऑब्ज़र्वर रिसर्च फाउण्डेशन द्वारा संयुक्त रूप से किया जा रहा है। सम्मेलन में भाग लेने वाली अन्य प्रमुख हस्तियाँ हैं – पूर्व अफगानी राष्ट्रपति हामिद करज़ई, पूर्व कनाडियन प्रधानमंत्री स्टीफन हार्पर, पूर्व स्वीडिश प्रधानमंत्री कार्ल बिल्ट, भारतीय थलसेना के प्रमुख जनरल विपिन रावत, भारतीय नौसेना के प्रमुख सुनील लान्बा और अमेरिकी प्रशांत कमान के प्रमुख एडमिरल हैरी हैरिस।

उल्लेखनीय है कि सिंगापुर (Singapore) के “शंग्रीला डायलॉग” (Shangri-La Dialogue) की तर्ज पर इस वार्षिक भू-राजनीतिक सम्मेलन पहली बार वर्ष 2016 में किया गया था।

……………………………………………………………..

2) केन्द्र सरकार ने मुस्लमानों द्वारा की जाने वाली वार्षिक हज-यात्रा (Haj) के लिए प्रदान की जाने वाली सब्सिडी (subsidy) को समाप्त करने की घोषणा 16 जनवरी 2018 को की। हज सब्सिडी समाप्त करने का यह फैसला 2012 के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश तथा इसके परिप्रेक्ष्य में गठित किस समिति की सिफारिशों के आधार पर लिया गया है? – अफज़ल अमानुल्लाह समिति (Afzal Amanullah Committee)

विस्तार: उल्लेखनीय है कि मई 2012 के दौरान सर्वोच्च न्यायालय (Supreme Court) ने अपने आदेश में कहा था कि मुसलमानों को हज यात्रा के लिए प्रदान की जाने वाली सब्सिडी को धीरे-धीरे कम करते हुए वर्ष 2022 तक समाप्त कर देना चाहिए। इस रिपोर्ट के परिप्रेक्ष्य में केन्द्र सरकार ने फरवरी 2017 में जेद्दाह (Jeddah) में भारत के पूर्व कॉन्स्युलेट जनरल (Consulate General of India) अफज़ल अमानुल्लाह (Afzal Amanullah) की अध्यक्षता में एक 6-सदस्यीय समिति का गठन किया था तथा इसे हज नीति तथा हज सब्सिडी के विषय पर अपनी सिफारिशें देने को कहा गया था। समिति ने अक्टूबर 2017 में अपनी रिपोर्ट सौंपी थी जिसमें हज नीति में तमाम सुधार तथा सब्सिडी को खत्म करने की वकालत की गई थी।

16 जनवरी 2018 को केन्द्र सरकार ने घोषणा कि कि इस वर्ष से हज के लिए कोई सब्सिडी नहीं प्रदान की जायेगी तथा इस धन को अल्पसंख्यकों की शिक्षा तथा कल्याण के लिए खर्च किया जायेगा। हज सब्सिडी में तहत हज यात्रा पर जाने वालों को एयर इण्डिया की सस्ती टिकटें तथा हज यात्रा पर जाने के लिए गंतव्य एयरपोर्ट तक पहुँचने के लिए प्रदत्त सुविधाएं शामिल हैं।

हज सऊदी अरब में मुसलमानों के सबसे पवित्र शहर मक्का (Mecca) की उस वार्षिक यात्रा को कहा जाता है जिसे मुसलमानों को अपने जीवन काल में कम से कम एक बार अवश्य करने की अपेक्षा इस्लाम में की गई है।

……………………………………………………………..

3) बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स (Sensex) 17 जनवरी 2018 को किस रिकॉर्ड स्तर के ऊपर पहली बार बंद होने में सफल रहा? – 35,000 अंक

विस्तार: 17 जनवरी 2018 को बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का संवेदी सूचकांक पहली बार 35,000 अंकों के स्तर के ऊपर बंद होने में सफल रहा। वहीं दूसरी ओर 30-शेयरों का निफ्टी (Nifty) सूचकांक इस दिन 10,800 अंकों के स्तर तक पहली बार पहुँचा लेकिन बाद में गिरकर 10,788 पर बंद हुआ।

इस दिन बाजार में तेजी का प्रमुख कारण केन्द्र सरकार द्वारा वर्ष 2017-18 के दौरान अतिरिक्त उधारी (extra borrowing) को 50,000 करोड़ रुपए से घटाकर 20,000 करोड़ रुपए करने का फैसला रहा। उल्लेखनीय है कि इस वर्ष स्टॉक बाजार में तेजी के मुख्य कारण वैश्विक तेजी के अलावा कॉर्पोरेट कम्पनियों के अपेक्षाकृत अच्छे परिणाम तथा आर्थिक वृद्धि के बेहतर आंकड़े रहे हैं।

……………………………………………………………..

4) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके इज़राइली समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू ने गुणवत्तावान उद्यमियों को विकसित करने के लिए “आईक्रिएट” (“iCREATE”) नामक केन्द्र का उद्घाटन किस शहर के पास किया? – अहमदाबाद (Ahmedabad)

विस्तार: गुणवत्तावान उद्यमियों को विकसित करने के लिए “आईक्रिएट” (“iCREATE”) नामक केन्द्र अहमदाबाद (Ahmedabad) के निकट स्थापित किया गया है तथा इस केन्द्र का उद्घाटन 17 जनवरी 2018 को भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनके इज़राइली समकक्ष बेंजामिन नेतन्याहू ने किया।

“आईक्रिएट” एक स्वतंत्र केन्द्र है जिसकी स्थापना अद्यमिता विकास के लिए की गई है। इसमें उद्यमिता विकास में रचनाधर्मिता, नवाचार, अभियंत्रिकी, उत्पाद डिज़ाइन तथा नविकसित तकनीकों जैसे उपागमों को प्रयोग में लाने की व्यवस्था की गई है। यहाँ तैयार किए जा रहे उद्यमियों को खाद्य सुरक्षा, जल, साइबर-सुरक्षा, कनेक्टिविटी, आईटी व इलेक्ट्रॉनिक्स, ऊर्जा, बायो-मेडिकल उपकरण जैसे चुनौतीपूर्ण क्षेत्रों में काम करने के लिए तैयार किया जा रहा है।

……………………………………………………………..

5) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 16 जनवरी 2018 को राजस्थान (Rajasthan) के किस स्थान पर 431 अरब रुपए से स्थापित की जाने वाली एक भारी-भरकम तेल-शोधनशाला (Oil Refinery) के काम के प्रारंभ को हरी झण्डी दिखाई? – बाड़मेर (Barmer)

विस्तार: राजस्थान के बाड़मेर (Barmer) में एक भारी-भरकम तेल-शोधनशाला के काम के प्रारंभ का 16 जनवरी 2018 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उद्घाटन किया। 431 अरब रुपए के निवेश से इस तेल-शोधनशाला को सार्वजनिक क्षेत्र के हिन्दुस्तान पेट्रोलियम निगम (HPCL) और राजस्थान सरकार द्वारा एक संयुक्त उपक्रम के रूप में स्थापित किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने इसे वर्ष 2022 तक शुरू करने की समयसीमा तय की है तथा यह देश की पहली ऐसी तेल-शोधनशाला होगी जो भारत-स्टेज 6 (Bharat Stage VI – (Euro 6) के मानकों के अनुरूप तेल का उत्पादन करेगी।

हालांकि यह पहला मौका नहीं है जब बाड़मेर में इस तेल-शोधनशाला का काम शुरू किया गया हो। वर्ष 2009 में ओएनजीसी (ONGC) ने यहाँ तेल-शोधनशाला स्थापित करने की योजना बनाई थी लेकिन इस योजना को उपयोगी ने होने के कारण बाद में स्थगित कर दिया गया। वहीं 22 सितम्बर 2013 को संप्रग (UPA) की तत्कालीन अध्यक्षा सोनिया गांधी ने यहाँ तेल शोधनशाला की नींव रखी थी।

उल्लेखनीय है कि बाड़मेर जनवरी 2004 में सुर्खियों में आया था जब केर्न एनर्जी (Cairn Energy) ने यहाँ के मंगला (Mangala) में तेल के विशाल भण्डारों का पता लगाया था जोकि 20 से अधिक वर्षों में भारत में खोजा गया सबसे बड़ा ऑनशोर तेल भण्डार था।

……………………………………………………………..

| Current Affairs | Current Affairs 2018 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking , Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2018 समसामायिकी | 2018 करेण्ट अफेयर्स | जनवरी 2018 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.