15 सितम्बर 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

15 Sep, 2017

1511 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो एबी ने भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना (India’s first Bullet Train project) के कार्य का उद्घाटन 14 सितम्बर 2017 को अहमदाबाद में किया। अहमदाबाद को मुम्बई से जोड़ने वाली इस प्रस्तावित 508 किलोमीटर लम्बी हाई-स्पीड लाइन का पहला टर्मिनल अहमदाबाद के किस स्थान पर बनाया जायेगा जहाँ यह उद्घाटन कार्यक्रम भी आयोजित किया गया? – साबरमती (Sabarmati)

विस्तार: भारत की पहली बुलेट ट्रेन परियोजना अहमदाबाद (Ahmedabad) को मुम्बई (Mumbai) से जोड़ेगी तथा इसका पहला टर्मिनल अहमदाबाद के साबरमती (Sabarmati) में स्थापित किया जायेगा। यह टर्मिनल मौजूदा साबरमती रेलवे स्टेशन पर बनाया जायेगा। वहीं मुम्बई में बुलेट ट्रेन का टर्मिनल बान्द्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स में स्थापित करना प्रस्तावित है। साबरमती में ही यह उद्घाटन समारोह आयोजित किया गया।

देश की इस पहली बुलेट ट्रेन परियोजना पर 1.1 लाख करोड़ रुपए (Rs. 1.1 lakh crore) का निवेश आयेगा तथा इसे भारतीय रेल (Indian Railways) और जापानी कम्पनी शिन्कान्सेन टैक्नोलॉजी (Shinkansen Technology) के बीच संयुक्त उपक्रम (joint venture) द्वारा क्रियान्वित किया जायेगा। जापानी दल का मानना है कि वर्ष 2023 तक यह बुलेट ट्रेन शुरू हो जायेगी जबकि भारत के रेल मंत्री पियूष गोयल के अनुसार प्रधानमंत्री मोदी चाहते हैं कि इसकी शुरुआत भारतीय स्वतंत्रता की 75वीं वर्षगाँठ पर 15 अगस्त 2022 को हो जाए।

यह प्रस्तावित हाई-स्पीड ट्रैक देश की सबसे लम्बी 21 किलोमीटर की सुरंग से भी गुज़रेगा जिसमें से सात किलोमीटर समुद्र के नीचे होगा (महाराष्ट्र के थाणे के पास)। इस परियोजना से अहमदाबाद और मुम्बई के बीच लगने वाला समय मौजूदा आठ घण्टे से घटकर मात्र 2 घण्टे रह जायेगा। लेकिन यदि इस ट्रैक के सभी प्रस्तावित 12 स्टेशनों पर ट्रेन रोकी जाती है तो यह समय तीन घण्टे हो जायेगा।

1.1 लाख करोड़ मूल्य की इस परियोजना के 81% हिस्से (88,000 करोड़ रुपए) का वित्त पोषण जापानी सरकार करेगी तथा इसके लिए बेहद रियायती ब्याज दर मात्र 0.1% वसूली जायेगी। भारत को यह कर्ज अगले 50 वर्षों में चुकाना होगा।

………………………………………………………………………..

2) 13 सितम्बर 2017 को अंतर्राष्ट्रीय ऑलम्पिक समिति (IOC) द्वारा की गई घोषणा के अनुसार वर्ष 2024 और 2028 के ग्रीष्मकालीन ऑलम्पिक खेलों  (Summer Olympics) का आयोजन क्रमश: किन शहरों में किया जायेगा? – पेरिस और लॉस एंजिल्स

विस्तार: फ्रांस की राजधानी पेरिस (Paris) में वर्ष 2024 के ग्रीष्मकालीन ऑलम्पिक खेल आयोजित किए जायेंगे जबकि इन खेलों का 2028 में होने वाला अगला संस्करण अमेरिका के लॉस एंजिल्स (Los Angles) शहर में होगा। यह घोषणा अंतर्राष्ट्रीय ऑलम्पिक समिति (International Olympic Committee – IOC) की पेरू की राजधानी लीमा (Lima) में चल रहे वार्षिक सत्र (Annual Session) के दौरान 13 सितम्बर 2017 को की गई। इस घोषणा की खास बात थी कि यह पहला मौका था जब एक ही साथ जो आयोजक शहरों की घोषणा की गई।

उल्लेखनीय है कि 2024 के ऑलम्पिक खेलों का आयोजन पेरिस और लॉस एंजिल्स दोनों शहर करना चाहते थे। लेकिन बाद में लॉस एंजिल्स ने अपनी दावेदारी IOC के इस वादे पर छोड़ दी कि उसे अगले खेलों के आयोजन की जिम्मेदारी और वित्त पोषण में सहायता प्रदान की जायेगी। 2024 के खेलों के लिए तीन अन्य दावेदारों हैमबर्ग, रोम और बुडापेस्ट द्वारा पीछे हटने के बाद पेरिस और लॉस एंजिल्स ही दो दावेदार बचे थे।

पेरिस ने 2008 व 2012 के खेलों के लिए भी दावेदारी की थी तथा अब 2024 के खेलों की जिम्मेदारी मिलने के बाद इस शहर में 100 वर्षों के बाद यह प्रतिष्ठित आयोजन पुन: होगा। लॉस एंजिल्स 1931 और 1984 में इन खेलों का आयोजन कर चुका है।

………………………………………………………………………..

3) भारत ने बांग्लादेश में शरणार्थी बनकर आए म्यांमार के रोहिन्ग्या मुस्लिमों (Rohingya Muslims) को सहायता प्रदान करने के लिए सामान की एक बड़ी खेंप 14 सितम्बर 2017 को रवाना कर दी। मानवीय सहायता पहुँचाने के इस अभियान को क्या नाम दिया गया है? – “ऑपरेशन इंसानियत” (“Operation Insaniyat”)

विस्तार: “ऑपरेशन इंसानियत” (“Operation Insaniyat”) भारत सरकार के मानवीय सहायता पहुँचाने वाले उस ऑपरेशन को दिया गया नाम है जिसके तहत म्यांमार (Myanmar) से लाखों की संख्या में शरणार्थी (refugees) बनकर बांग्लादेश (Bangladesh) पहुँचे रोहिन्ग्या मुसलमानों (Rohingya Muslims) की सहायता की जायेगा। इसके तहत सहायता की पहली खेंप 14 सितम्बर 2017 को भेजी गई।

इस खेंप में पीड़ित लोगों के तुरंत काम में आने वाली खाद्य व अखाद्य वस्तुएं हैं जैसे चावल, दाल, चीनी, नमक, खाद्य तेल, चाय, नूडल्स, बिस्कुट, कम्बल, मच्छर-दानी, तंबू, आदि।

संयुक्त राष्ट्र (UN) के आकलन के अनुसार 25 अगस्त 2017 को म्यान्मार के हिंसाग्रस्त राखिने (Rakhine) प्रांत में हिंसा का भयंकर दौर शुरू होने के बाद से अब तक लगभग रोहिन्ग्या मुसलमान बांग्लादेश में शरण ले चुके हैं।

………………………………………………………………………..

4) 14 सितम्बर 2017 को “इलेक्ट्रिक वाहनों” (Electric Vehicles) पर अपनी नीति (Policy) जारी कर कौन सा राज्य इस महत्वपूर्ण पर्यावरणीय विषय पर नीति जारी करने वाला देश का पहला राज्य बन गया? – कर्नाटक (Karnataka)

विस्तार: कर्नाटक (Karnataka) की राज्य सरकार ने 14 सितम्बर 2017 को ‘Electric Vehicle and Energy Storage Policy 2017’ नामक विस्तृत नीति पेश की जोकि भारत के किसी राज्य द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों पर प्रस्तुत की गई पहली नीति है। इस नीति के तहत कर्नाटक सरकार इलेक्ट्रिक परिवहन क्षेत्र में 31,000 करोड़ रुपए के निवेश को आकर्षित करने की मंशा रखती है।

नीति में यह उल्लेख किया गया है कि कर्नाटक को देश में वैकल्पिक ईंधन पर चलने वाले वाहनों के उत्पादन हब के रूप में स्थापित किया जायेगा तथा इसके द्वारा जीवाश्म-आधारित ईंधन पर निर्भरता को कम कर राज्य के “मेक इन कर्नाटक” नामक प्रयास को भी संबल प्रदान किया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि “इलेक्ट्रिक वाहनों” पर किसी स्पष्ट केन्द्रीय नीति का अभी भी अभाव है। भारत वर्तमान में वाहनों की संख्या के आधार पर दुनिया का पाँचवा सबसे बड़ा देश है तथा 2020 तक यह तीसरे स्थान पर पहुँच जायेगा। इससे तमाम पर्यावरणीय चुनौतियों का सामना देश को करना पड़ेगा तथा इलेक्ट्रिक वाहन इस परिदृश्य में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेंगे।

………………………………………………………………………..

5) 469 पृष्ठों का उपन्यास “व्हाट हैपेण्ड” (“What Happened”), जिसे 12 सितम्बर 2017 को जारी किया गया, किस प्रमुख राजनीतिक हस्ती के संस्मरण हैं? – हिलेरी क्लिंटन (Hillary Clinton)

विस्तार: “व्हाट हैपेण्ड” (“What Happened”) वर्ष 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में खड़ी डेमोक्रेटिक पार्टी की प्रत्याशी हिलेरी रोडेम क्लिंटन के संस्मरण (memoirs) हैं जिसमें उन्होंने अपनी चुनाव यात्रा तथा रिपब्लिकन उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) के हाथों अपनी अप्रत्याशित हार के कारणों का बहुत बेबाकी से उल्लेख किया है। यह पुस्तक जारी होने से पहले ही दुनिया भर में काफी लोकप्रियता हासिल कर चुकी थी।

………………………………………………………………………..

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | सितम्बर 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.