10 जनवरी 2018 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

10 Jan, 2018

542 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) उत्तर और दक्षिण कोरिया के बीच 2 वर्ष से अधिक समय के बाद पहली बार औपचारिक वार्ता 9 जनवरी 2018 को हुई। यह वार्ता, जिसपर सारी दुनिया की नजर लगी हुई थी, मुख्यत: किस मुद्दे पर विचार करने के लिए आयोजित की गई थी? – दक्षिण कोरिया में फरवरी 2018 में होने वाले शीतकालीन ऑलम्पिक खेलों (Winter Olympics) में उत्तर कोरिया के खिलाड़ियों की प्रतिभागिता

विस्तार: उल्लेखनीय है कि 23वें शीतकालीन ऑलम्पिक व पैरालम्पिक खेलों (XXIII Winter Olympics and Paralympics) का आयोजन 9 से 25 फरवरी 2018 के बीच दक्षिण कोरिया (South Korea) के प्योंगचांग (PyeongChang) में होना है। इन खेलों में उत्तर कोरिया के खिलाड़ियों की प्रतिभागिता के मुद्दे पर 9 जनवरी 2018 को दोनों देशों के प्रतिनिधियों की वार्ता हुई। यह 2 साल से भी अधिक समय बाद दोनों देशों के बीच हुई पहली औपचारिक वार्ता थी।

बैठक में उत्तर कोरिया ने अपने खिलाड़ी इन खेलों में भाग लेने के लिए दक्षिण कोरिया भेजने पर रजामंदी जता दी। इसके अलावा इस वार्ता के एक और महत्वपूर्ण नतीजा यह निकला कि दोनों देश सैन्य तनाव को कम करने पर भी सहमत हो गए।

इस वार्ता में दक्षिण कोरियाई प्रतिमण्डल का नेतृत्व वहाँ के एकीकरण मंत्री चो योंग-योन (Cho Myoung-gyon) ने तथा उत्तर कोरिया का नेतृत्व वहां की शांतिपूर्ण पुनरेकीकरण मंत्री री सॉन वॉन (Ri Son Gwon) ने किया। यह वार्ता ऐतिहासिक पनमुनजॉम संधि गाँव (Panmunjom truce village) में आयोजित हुई, जोकि दोनों कोरियाई देशों के बीच स्थापित शस्त्रहीन क्षेत्र है। 1953 के कोरियाई युद्ध की समाप्ति के बाद पनमुनजॉम को ऐसा स्थान बनाया गया था जहाँ दोनों पक्ष मिल सकते हैं।

हालांकि इस वार्ता का मुद्दा मुख्यत: खेलों से जुड़ा था लेकिन इसके बावजूद इस पर दुनिया भर के प्रमुख नेताओं और पक्षों की नज़र लगी हुई थी क्योंकि उत्तर कोरिया द्वारा परमाणु युद्ध की धमकियों के बीच इसे कोरियाई प्रायद्वीप में शांति की दिशा में एक कड़ी के रूप में देखा जा रहा था।

……………………………………………………………….

2) 9 जनवरी 2018 को जारी सूचना के अनुसार पूरा महिला स्टाफ होने के चलते किस रेलवे स्टेशन का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के 2018 के संस्करण (Limca Book of Records 2018) में शामिल किया गया है? – मातुंगा (Matunga)

विस्तार: मध्य रेलवे (Central Railway – CR) के मातुंगा (Matunga) रेलवे स्टेशन का नाम लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स के 2018 के संस्करण (Limca Book of Records 2018)  में शामिल किया गया है। ऐसा इसलिए किया गया है क्योंकि इस स्टेशन का पूरा संचलान महिला कर्मियों द्वारा किया जाता है। मातुंगा को यह उपलब्धि देश का पहला पूर्णतया महिला कर्मियों द्वारा संचालित रेलवे स्टेशन बनने के 6 माह बाद हासिल हुई है।

उल्लेखनीय है कि जुलाई 2017 में मातुंगा पूर्णतया महिला कर्मियों द्वारा संचालित भारत का पहला रेलवे स्टेशन बना था। इस स्टेशन में कुल 41 महिला कर्मी पूरे स्टेशन का संचालन करती हैं तथा इसमें स्टेशन के रखरखाव, वाणिज्यिक परिचालन तथा रेलवे सुरक्षा बल की सेवाएं शामिल हैं। यह कर्मी स्टेशन प्रबन्धक ममता कुलकर्णी (Mamta Kulkarni) के नेतृत्व में कार्य करते हैं।

(फोटो आभार: मिड डे)

……………………………………………………………….

3) निजी क्षेत्र की किस प्रमुख इन्फ्रास्ट्रक्चर कम्पनी ने 16,000 करोड़ रुपए की नवी मुम्बई अंतर्राष्ट्रीय हवाई-अड्डा परियोजना (Navi Mumbai International Airport project) के क्रियान्वयन के लिए एक रियायती समझौता (concession agreement) 8 जनवरी 2018 को किया? – जीवीके पॉवर एण्ड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (GVK Power & Infrastructure Ltd.)

विस्तार: हैदराबाद में मुख्यालय वाली प्रमुख विविधिकृत इन्फ्रास्ट्रक्चर कम्पनी जीवीके पॉवर एण्ड इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (GVK Power & Infrastructure Ltd.) ने मुम्बई के दूसरे अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के निर्माण से सम्बन्धित नवी मुम्बई अंतर्राष्ट्रीय हवाई-अड्डा परियोजना (Navi Mumbai International Airport project) के क्रियान्वयन के लिए महाराष्ट्र सरकार के साथ एक रियायती समझौता 8 जनवरी 2018 को किया। इस समझौते के तहत GVK को परियोजना के क्रियान्वयन के लिए 30 वर्ष की समयावधि के लिए रियायत (concession) प्रदान की जायेगी तथा इस समयावधि को 10 वर्ष बढ़ाया भी जा सकता है।

इस समझौते को GVK द्वारा गठित Navi Mumbai International Airport Pvt Ltd. नामक एक स्पेशल पर्पज़ व्हीकल (SPV) ने सिडको (Cidco) के साथ हस्ताक्षरित किया। उल्लेखनीय है कि इस महात्वाकांक्षी परियोजना के क्रियान्वयन की जिम्मेदारी महाराष्ट्र सरकार ने Cidco को सौंपी है।

GVK की अपनी सहयोगी कम्पनी Mumbai International Airport Pvt Ltd. (MIAL) के माध्यम से इस परियोजना में 74% हिस्सेदारी है जबकि शेष 26% हिस्सेदारी Cidco के पास है। यह परियोजना मुम्बई तथा नवी मुम्बई के जुड़वा शहरों के लिए बेहद महत्वपूर्ण परियोजना है क्योंकि यह यहाँ का दूसरा हवाई अड्डा होगा। वर्तमान अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे में शहर के बढ़ते भार को संभालने के लिए पर्याप्त क्षमता नहीं है।

GVK को इस परियोजना के लिए सफल बिडर (bidder) फरवरी 2017 में घोषित किया गया था जबकि 25 अक्टूबर 2017 को उसे औपचारिक रूप से इसके क्रियान्वयन का ठेका मिल गया था।

……………………………………………………………….

4) देश में शुरू किए गए अपने तरह के पहले लॉजिस्टिक्स सूचकांक (logistics index) – “लॉजिस्टिक्स ईज़ एक्रॉस डिफरेंट स्टेट्स इंडेक्स” (Logistics Ease Across Different States (LEADS) index) में किस राज्य को लॉजिस्टिक्स कार्यकुशलता के मामले में पहले स्थान पर रखा गया है? – गुजरात (Gujarat)

विस्तार: गुजरात (Gujarat) ने लॉजिस्टिक्स के क्षेत्र में शुरू किए गए अपने तरह के देश के पहले सूचकांक – “लॉजिस्टिक्स ईज़ एक्रॉस डिफरेंट स्टेट्स (LEADS) इंडेक्स” में पहला स्थान हासिल किया है। यह सूचकांक अंतर्राष्ट्रीय वाणिज्यिक लॉजिस्टिक्स के क्षेत्र में देश के राज्यों वे केन्द्र शासित प्रदेशों की कार्यकुशलता के आकलन के उद्देश्य से शुरू किया गया है। सूचकांक में गुजरात के बाद क्रमश: पंजाब (Punjab) और आन्ध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) का स्थान है। इस नए सूचकांक को विश्व बैंक (World Bank) द्वारा प्रत्येक दो वर्ष में जारी किए जाने वाले लॉजिस्टिक्स परफॉर्मेंस इण्डेक्स (Logistics Performance Index – LPI) पर आधारित किया गया है। उल्लेखनीय है 2016 के LPI में भारत का स्थान दुनिया भर के 160 देशों में 35वाँ था।

यह सूचकांक केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने जनवरी 2018 के दौरान जारी किया। सूचकांक में मुख्य रूप से यह निष्कर्ष निकाला गया है कि लॉजिस्टिक्स के क्षेत्र में भारत के राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों का प्रदर्शन फिलहाल कमतर (sub-par) ही है।

लॉजिस्टिक्स दरअसल दो स्थानों के बीच भेजे जाने वाली वस्तुएं जैसे सामान, कागजात, सूचना, धन, आदि की आवाजाही का प्रबन्धन है जिसके लिए तमाम प्रकार की गतिविधियों तथा सेवाओं की आवश्यकता पड़ती है।

……………………………………………………………….

5) 6 जनवरी 2018 को 88 वर्ष की आयु में दिवंगत हुए ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) कपिल मोहन किस सुप्रसिद्ध भारतीय मदिरा (liquor) ब्राण्ड के जनक थे? – ओल्ड मौंक (Old Monk)

विस्तार: ब्रिगेडियर (सेवानिवृत्त) कपिल मोहन (Brigadier (retd.) Kapil Mohan), जोकि मोहन मीकिन लिमिटेड (Mohan Meakin Ltd.) के पूर्व अध्यक्ष (Chairman) व प्रबन्ध निदेशक (MD) थे, का 6 जनवरी 2018 को गाज़ियाबाद के मोहन नगर में हृदय गति रुक जाने के कारण निधन हो गया।

उन्होंने वर्ष 1954 में ओल्ड मौंक (Old Monk) नामक डार्क रम लाँच की थी तथा यह ब्राण्ड बहुत समय तक दुनिया का सबसे अधिक बिकने वाला डार्क रम ब्राण्ड था। इसके अलावा यह बहुत समय भारत का सर्वाधिक बिकने वाला भारत में बनने वाला विदेशी मदिरा (Indian Made Foreign Liquor – IMFL) ब्राण्ड भी था। मोहन ने इसके अलावा सोलन न. 1 (Solan No. 1) और गोल्डन ईगल (Golden Eagle) जैसे ब्राण्ड शुरू किए थे।

2010 में पद्मश्री (Padma Shri) से सम्मानित कपिल मोहन ने अपनी कम्पनी मोहन मीकिन के विविधीकरण (diversification) में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उल्लेखनीय है कि कपिल मोहन द्वारा कमान संभालने से पहले इस कम्पनी का नाम डायर मीकिन था।

……………………………………………………………….

| Current Affairs | Current Affairs 2018 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2018 समसामायिकी | 2018 करेण्ट अफेयर्स | जनवरी 2018 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.