1-5 अक्टूबर 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

05 Oct, 2017

1078 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द (President Ramnath Kovind) ने अन्य पिछड़ा वर्गों में उप-वर्गीकरण (Sub-categorization of OBCs) के मुद्दे पर एक 5-सदस्यीय आयोग का गठन 2 अक्टूबर 2017 को किया। इस आयोग की अध्यक्षता किसे सौंपी गई है? – न्यायमूर्ति जी. रोहिणी (Justice G. Rohini)

विस्तार: दिल्ली उच्च न्यायालय (Delhi High Court) की मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जी. रोहिणी (Justice G. Rohini) को अन्य पिछड़ा वर्गों में उप-वर्गीकरण के मुद्दे पर गठित उस 5-सदस्यीय आयोग की अध्यक्षा बनाया गया है जिसका गठन राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द ने 2 अक्टूबर 2017 को किया। इस आयोग को 12 सप्ताह के भीतर अपनी रिपोर्ट देने को कहा गया है।

न्यायमूर्ति जी. रोहिणी, जो अप्रैल 2014 में दिल्ली उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश बनने वाली पहली महिला न्यायधीश थीं, अन्य पिछड़ा वर्गों को आरक्षण के मुद्दे पर खासा अनुभव रखती हैं। वे आन्ध्र प्रदेश उच्च न्यायालय की उस पीठ का हिस्सा रही थीं जिसने पंचायती राज संस्थाओं में अन्य पिछड़ा वर्ग के लोगों को आरक्षण प्रदान करने के लिए आन्ध्र प्रदेश राज्य सरकार को ऐसी संस्थाओं में विशेष अधिकारी नियुक्त करने की अनुमति प्रदान की थी।

इस आयोग का गठन इसलिए महत्वपूर्ण घटनाक्रम माना जा रहा है क्योंकि इससे अन्य पिछड़ा वर्ग के अपेक्षाकृत कम प्रभावशाली लोगों को आरक्षण का लाभ मिलने की संभावना बनती दिख रही है।

………………………………………………………………

2) पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय द्वारा 1 अक्टूबर 2017 को की गई घोषणा के अनुसार दक्षिण भारत के किस मंदिर को सर्वश्रेष्ठ “स्वच्छ आइकॉनिक प्लेस” (‘Swachh Iconic Place’) के तौर पर चुना गया है? – मीनाक्षी सुंदरेश्वर मंदिर (मदुरै)

विस्तार: तमिलनाडु (Tamil Nadu) के मदुरै (madurai) स्थित मीनाक्षी सुंदरेश्वर मंदिर (मीनाक्षी मंदिर) को सर्वश्रेष्ठ “स्वच्छ आइकॉनिक प्लेस” (‘Swachh Iconic Place’) के तौर पर चुनने की घोषणा पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने 1 अक्टूबर 2017 को की। उल्लेखनीय है कि केन्द्र सरकार ने इस श्रेणी में कुल दस स्थानों को नामांकित किया था जिनमें से मीनाक्षी मंदिर को अब प्रथम स्थान प्रदान किया गया है।

“स्वच्छ आइकॉनिक प्लेस” सूची में अव्वल रहने के सम्बन्ध में मदुरै नगर निगम (Madurai City Corporation) ने इस संपूर्ण मंदिर के प्रांगण को स्वच्छ रखने के बारे में एक विस्तृत परियोजना बनाई थी। यह परियोजना अभी अपने प्रारंभिक चरणों में है तथा मार्च 2018 तक पूरी हो जायेगी। 11.65 करोड़ लागत की इस परियोजना को भारत पेट्रोलियम कॉरपोरेशन लिमिटेड (BPCL) ने अपनी कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (CSR) के तहत प्रायोजित किया है।

………………………………………………………………

3) केन्द्र सरकार ने हिमालय पर्वतमाला वाले देश के 4 राज्यों में जैवविविधता के संरक्षण को सुनिश्चित करने तथा यहाँ की भूमि और वन संपदा को बचाने के लिए एक 6-वर्षीय परियोजना 2 अक्टूबर 2017 को लाँच की। इस महात्वाकांक्षी परियोजना का क्या नाम है? – “सिक्योर हिमालया” (‘‘SECURE Himalaya’)

विस्तार: केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्द्धन ने 2 अक्टूबर 2017 को “सिक्योर हिमालया” (‘‘SECURE Himalaya’) नामक एक महात्वाकांक्षी परियोजना लांच की। संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) के सहयोग से शुरू की गई इस 6-वर्षीय परियोजना को हिमालय स्थित 4 राज्यों में क्रियान्वित कर यहाँ की जैव-विविधता (biodiversity) तथा जीव-जंतुओं के प्राकृतिक आवासों (habitats) को संरक्षित रखने का प्रयास किया जायेगा। इस परियोजना के नाम में प्रयुक्त शब्द ‘SECURE’ का पूरा अर्थ है – securing livelihoods, conservation, sustainable use and restoration of high range Himalayan ecosystems

यह परियोजना चार राज्यों के कुछ निश्चित स्थानों के लिए तैयार की गई है – जम्मू व कश्मीर (J&K) का चांगथांग, हिमाचल प्रदेश (Himachal Pradesh) के लागौल-पांगी व किन्नौर क्षेत्र, उत्तराखण्ड (Uttarakhand) का गंगोत्री क्षेत्र व ब्यांस घाटी तथा सिक्किम (Sikkim) का कंचनजंगा (ऊपरी तीस्ता घाटी)।

“सिक्योर हिमालया” परियोजना के तहत बर्फीले तेंदुए (snow leopard) तथा अस्तित्व का संकट झेल रहे हिमालय क्षेत्र के अन्य जीवों वे उनके निवासों के संरक्षण पर मुख्य जोर दिया जायेगा। इसके अलावा इन क्षेत्रों के निवासियों की आजीविका सुनिश्चित करने और इन क्षेत्रों में वन्य अपराधों को कम करने की कोशिश भी की जायेगी।

………………………………………………………………

4) विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उप-महानिदेशक (Deputy Director General) के प्रतिष्ठित पद पर 3 अक्टूबर 2017 को किस भारतीय की नियुक्ति की गई? – डॉ. सौम्या स्वामीनाथन (Dr. Soumya Swaminathan)

विस्तार: भारतीय मेडिकल अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research – ICMR) की महानिदेशक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन (Dr. Soumya Swaminathan) को विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organisation – WHO) के कार्यक्रमों की उप-महानिदेशक (Deputy Director General for programmes – DDP) नियुक्त किया गया है। उनकी इस प्रतिष्ठित पद पर नियुक्ति की घोषणा विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक (Director General) डॉ. टेड्रॉस अधानॉम घेब्रेयेसुस (Dr. Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने 3 अक्टूबर 2017 को की।

डॉ. सौम्या स्वामीनाथन बाल्य रोग विशेषज्ञ (pediatrician) हैं तथा क्लीनिकल केयर और मेडिकल रिसर्च में उन्हें लगभग 30 वर्ष का अनुभव है। उन्हें तपेदिक (tuberculosis) और एच.आई.वी. (HIV) अनुसंधान में वैश्विक पहचान हासिल है। उन्होंने पुणे (Pune) स्थित आर्म्ड फोर्स मेडिकल कॉलेज (AFMC) से एमबीबीएस (MBBS) की उपाधि हासिल की थी जबकि दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) से एमडी (MD) की उपाधि प्राप्त की थी।

वे भारत में हरित क्रांति के जनक माने जाने वाले डॉ. एम.एस. स्वामीनाथन (M.S. Swaminathan) की पुत्री हैं जबकि उनकी माँ मीना स्वामीनाथन एक सुप्रसिद्ध शिक्षाविद हैं।

………………………………………………………………

5) तीन वैज्ञानिकों रेनर वाइस, बैरी बैरिश और किप थॉर्न को भौतिकी के किस क्षेत्र में उनके योगदान के लिए वर्ष 2017 का भौतिकी का नोबेल पुरस्कार (2017 Nobel Prize for Physics) प्रदान किया जा रहा है? – गुरुत्वाकर्षण तरंगें (Gravitational waves)

विस्तार: तीन अमेरिकी वैज्ञानिकों वैज्ञानिकों रेनर वाइस (Rainer Weiss), बैरी बैरिश (Barry Barish) और किप थॉर्न (Kip Thorne) को गुरुत्वाकर्षण तरंगों (Gravitational waves) का पता लगाने में उनके विशिष्ट योगदान के लिए वर्ष 2017 का भौतिकी का नोबेल पुरस्कार परदान करने की घोषणा नोबेल पुरस्कार समिति ने 3 अक्टूबर 2017 को की।

अत्याधिक घने कृष्ण विवरों (super-dense black holes) के मेल से पैदा होने वाली गुरुत्वाकर्षण तरंगों का पता लगाने के लिए इन वैज्ञानिकों ने LIGO प्रयोगशाला (Laser Interferometer Gravitational-Wave Observatory) में लेज़र तरंगों का इस्तेमाल किया था।

………………………………………………………………

6) जीवों के दैनिक कार्यकालापों पर नियंत्रण रखने वाली आंतरिक घड़ी (internal clock) पर अतुलनीय अनुसंधान के लिए किन तीन अमेरिकी वैज्ञानिकों को वर्ष 2017 का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार (2017 Nobel Prize in Medicine) प्रदान करने की घोषणा 2 अक्टूबर 2017 को की गई? – जेफरी सी. हाल, माइकल रोसबाश और माइकल डब्ल्यू. यंग

विस्तार: वर्ष 2017 का चिकित्सा का नोबेल पुरस्कार तीन अमेरिकी वैज्ञानिकों – सी. हाल (Jeffrey C Hall), माइकल रोसबाश (Michael Rosbash) और माइकल डब्ल्यू. यंग (Michael W Young) में साझा किया जायेगा। इन तीन वैज्ञानिकों ने शरीर की गतिविधियों को नियंत्रित करने में बेहद महत्वपूर्ण मॉल्यूक्यूलर मैकेनिज़्म (molecular mechanisms) का पता लगाया था। इन मॉल्यूक्यूलर मैकेनिज़्म को आसान शब्दों में शरीर की 24-घण्टे की घड़ी (the 24-hour body clock) कहा जा सकता है।

अपने अनुसंधान के द्वारा इन तीन वैज्ञानिकों ने यह पता लगाया था कि पृथ्वी के जीव जैसे पेड़-पौधे, मनुष्य तथा जानवर पृथ्वी के घूर्णन (Earth’s revolutions) के साथ अपनी दैनिक गतिविधियों का तारम्य बैठाने के लिए अपनी आंतरिक घड़ी (internal clock) का इस्तेमाल किस प्रकार करते हैं।

………………………………………………………………

7) तीन यूरोपीय मूल के वैज्ञानिकों – जाक डबोशे, जोएकिम फ्रैंक और रिचर्ड हेण्डरसन को रसायनशस्त्र के किस क्षेत्र में दिए उल्लेखनीय योगदान के लिए वर्ष 2017 का रसायनशास्त्र का नोबेल पुरस्कार (2017 Nobel Prize for Chemistry) प्रदान किया जा रहा है? – बायोमॉल्यूक्यूल्स की गतिविधियों की गतिविधियों को कैद करने में सक्षम क्रायो इलेक्ट्रिक माइक्रोस्कोपी (cryo-electric microscopy) के विकास के लिए

विस्तार: बायोमॉल्यूक्यूल्स (यानि जैव अणुओं) की गतिविधियों की गतिविधियों को कैद करने में सक्षम क्रायो इलेक्ट्रिक माइक्रोस्कोपी के विकास के लिए तीन वैज्ञानिकों – स्विट्ज़रलैण्ड के जाक डबोशे (Jacques Dubochet), अमेरिका के जोएकिम फ्रैंक (Joachim Frank) और ब्रिटेन के रिचर्ड हेण्डरसन (Richard Henderson) को वर्ष 2017 का रसायनशास्त्र का नोबेल पुरस्कार प्रदान करने की घोषणा नोबेल समिति ने 4 अक्टूबर 2017 को की।

इन तीनों वैज्ञानिकों के प्रसासों के कारण प्रोटीन और अन्य मॉलीक्यूल्स को जमी हुई अवस्था (frozen state) में लाकर उनका अत्यंत उच्च गुणवत्ता वाला चित्र लिया जा सकता है। इनके प्रयासों के कारण हाल ही में चर्चा में आए ज़ीका (Zika) वायरस की सतह पर मौजूद प्रोटीन का चित्र लेना भी संभव हुआ है।

………………………………………………………………

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | अक्टूबर 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.