1-2 जनवरी 2017 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

02 Jan, 2017

2554 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) संयुक्त राष्ट्र संगठन (UNO) के नए महासचिव एंटोनी गुटरेज़ (Antonio Guterres) का कार्यकाल 1 जनवरी 2017 को शुरू हो गया जब उन्होंने आधिकारिक रूप से बान की-मून (Ban Ki-moon) का स्थान ले लिया। गुटरेज़ इस प्रतिष्ठित पद को संभालने वाली कौन से क्रम की हस्ती हैं? – नौंवीं (Ninth)

विस्तार: दक्षिण कोरिया के बान की-मून (Ban Ki-moon) का संयुक्त राष्ट्र के महासचिव (Secretary-General) का 10 वर्ष लम्बा कार्यकाल 31 दिसम्बर 2016 को समाप्त हो गया। वहीं पुर्तगाल (Portugal) के एंटोनी गुटरेज़ (Antonio Guterres) एक दिन बाद 1 जनवरी 2017 को संगठन के नौंवे महासचिव बन गए।

गुटरेज़ ऑस्ट्रिया के कर्ट वॉल्डहाइम (Kurt Waldheim) के बाद इस प्रतिष्ठित पद को संभालने वाले पहले पश्चिमी यूरोपीय नेता बने हैं। इसी के साथ वे संयुक्त राष्ट्र के ऐसे पहले महासचिव हैं जिनका जन्म इस संस्था के अस्तित्व में आने के बाद (1949) हुआ है। वे 1995 से 2002 के बीच पुर्तगाल के प्रधानमंत्री रहे थे।

संयुक्त राष्ट्र के आठ पूर्व महासचिव (क्रमानुसार) हैं – 1) ट्रीगवी ली (ऑस्ट्रिया), 2) डैग हैमरस्क्जोंल्ड (स्वीडन), 3) यू. थांट (म्यांमार), 4) कर्ट वॉल्डहाइम (ऑस्ट्रिया) , 5) ज़ेवियर पेरिज़ डी कुईयार (पेरू), 6) बुतरस बुतरस घाली (मिस्र), 7) कोफी अन्नान (घाना) और 8) बान की-मून (दक्षिण कोरिया)।

……………………………………………………………..

2) देश के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने 1 जनवरी 2017 ने अपनी बेंचमार्क लैण्डिंग दर को 0.9% घटा दिया। माना जा रहा है कि SBI के इस कदम के बाद देश के अन्य बैंक भी अपनी ब्याज दर घटायेंगे। इस कटौती के बाद SBI की नयी बैंचमार्क लैण्डिंग दर क्या हो गई है? – 8.0%

विस्तार: भारतीय स्टेट बैंक ने 1 जनवरी 2017 से अपने 1-वर्षीय समयावधि के ऋण इन्स्ट्रूमेण्ट्स पर लागू लेण्डिंग दर (marginal cost of funds based lending rate – MCLR) को 8.9% से 0.9% घटाकर 8.0% कर दिया। वहीं दो व तीन वर्ष की समयावधि के ऋण इन्स्ट्रूमेण्ट्स पर लैण्डिंग दर को क्रमश: 8.10% व 8.15% कर दिया गया है।

यहाँ यह बताना आवश्यक है कि देश के बैंकों ने जून 2016 से MCLR को नई बैंचमार्क लैण्डिंग दर के रूप में अपना लिया है तथा कर्ज लेने वाले नए ग्राहकों के लिए ब्याज दर के निर्धारण के लिए लागू पुरानी बेस रेट प्रणाली (base rate system) को छोड़ दिया है। MCLR की गणना के लिए ऋण प्राप्त करने की सीमांत लागत (marginal cost of borrowing) तथा बैंकों के रिटर्न ऑन नेट वर्थ (return on net worth for banks) का प्रयोग किया जाता है।

उल्लेखनीय है कि 31 दिसम्बर 2016 को देश को अपने सम्बोधन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश के बैंक प्रबन्धन से आह्वान किया था कि वे गरीबों तथा मध्य-वर्ग की आवश्यकताओं को विशेष ध्यान में रखकर निर्णय ले। 1 जनवरी 2016 को ही दो अन्य प्रमुख बैंकों – पंजाब नेशनल बैंक (PNB) और यूनियन बैंक ऑफ इण्डिया (UBI) ने भी अपनी लैण्डिंग दरों को 0.9% घटाने की घोषणा की।

……………………………………………………………..

3) 500 व 1000 रुपए के पुराने नोटों को प्रचलन से बाहर करने के निर्णय को अमली जामा पहनाने के उद्देश्य से राष्ट्रपति (President of India) ने जिस नए अध्यादेश (Ordinance) को अपनी मंजूरी प्रदान की, उसका नाम क्या है? – निर्दिष्ट बैंक नोट (देनदारियों की समाप्ति) अध्यादेश, 2016

विस्तार: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने निर्दिष्ट बैंक नोट (देनदारियों की समाप्ति) अध्यादेश, 2016 (Specified Bank Notes (Cessation of Liabilities) Ordinance, 2016) को जारी किए जाने को 30 दिसंबर, 2016 को मंजूरी दे दी। भारत सरकार ने 08 नवंबर, 2016 को 500 रुपये एवं 1000 रुपये (निर्दिष्ट बैंक नोट- Specified Bank Notes – SBN) के बैंक नोटों की वर्तमान श्रृंखला का चलन बंद करने का जो निर्णय लिया था, उसी को ध्यान में रखते हुए इस अध्यादेश को जारी किये जाने को मंजूरी दी गई है।

इस अध्यादेश के मुख्य उद्देश्य ये हैं 1. SBN के लिए भारतीय रिजर्व बैंक और भारत सरकार की देनदारी को स्पष्टता और अंतिम रूप प्रदान करना 2. निर्धारित समय सीमा के भीतर SBN जमा करने में विफल रहे लोगों को एक अवसर प्रदान करना 3. अध्यादेश के किसी भी प्रावधान के उल्लंघन पर जुर्माने का प्रावधान करने के साथ-साथ SBN को अपने पास रखने, हस्तांतरित करने अथवा प्राप्त करने को अवैध घोषित करना।

……………………………………………………………..

4) किस उपक्रम को कैथोलिक सीरियन बैंक (Catholic Syrian Bank) में 51% हिस्सेदारी खरीदने की सैद्धांतिक अनुमति हाल ही में भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने प्रदान की है जिसके चलते यह किसी बैंक का नियंत्रण हासिल करने वाला देश का पहला गैर-बैंकिंग वित्तीय उपक्रम बन जायेगा? – फेयरफैक्स फाइनेंशियल होल्डिंग्स (Fairfax Financial Holdings)

विस्तार: भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने कनाडा के भारतीय मूल के अरबपति प्रेम वात्सा (Prem Watsa) के नियंत्रण वाले फेयरफैक्स फाइनेंशियल होल्डिंग्स (Fairfax Financial Holdings) को केरल में मुख्यालय वाले कैथोलिक सीरियन बैंक (Catholic Syrian Bank – CSB) का अधिग्रहण हासिल करने की सैद्धांतिक स्वीकृति हाल ही में प्रदान की है।

इस प्रकार यह पहला मौका होगा जब भारत के किसी बैंक का अधिग्रहण किसी गैर-बैंकिंग वित्तीय उपक्रम (non-banking financial entity) द्वारा किया जायेगा। उल्लेखनीय है कि भारतीय रिज़र्व बैंक ने बैंकों के स्वामित्व- सम्बन्धी नियमों में यह परिवर्तन मई 2016 में ही किए हैं जिसके तहत अब गैर-बैंकिंग वित्तीय उपक्रम भी बैंकों का नियंत्रण हासिल कर सकते हैं।

हालांकि RBI द्वारा फेयरफैक्स फाइनेंशियल होल्डिंग्स को कैथोलिक सीरियन बैंक का अधिग्रहण इस शर्त पर करने की स्वीकृति प्रदान की गई है कि वह अगले 12 वर्ष में इस बैंक में अपनी हिस्सेदारी को घटा कर 15% तक करेगी। इसके अलावा फेयरफैक्स प्रारंभिक 5 वर्षों में अपनी हिस्सेदारी बेच नहीं सकेगी।

……………………………………………………………..

5) भारत के स्टार एकल टेनिस खिलाड़ी सोमदेव देवबर्मन (Somdev Devvarman) ने 1 जनवरी 2017 को अपने अंतर्राष्ट्रीय टेनिस करियर को अलविदा कह दिया। इस खिलाड़ी ने किस वर्ष देश के लिए एशियाई खेलों में दो स्वर्ण पदक जीते थे? – 2010

विस्तार: सोमदेव देवबर्मन (Somdev Devvarman) की सबसे बड़ी खासियत एकल खेलों में शानदार प्रदर्शन करना था। वे वर्ष 2008 में देश के टेनिस जगत में एक बेहद प्रतिभासम्पन्न युवा खिलाड़ी के रूप में आए थे। वे भारत की डेविस कप (Davis Cup) टीम में नियमित खिलाड़ी बन गए थे तथा उन्होंने वर्ष 2010 में भारत को डेविस कप के वर्ल्ड ग्रुप में पुन: प्रवेश दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

2010 उनके करियर का सबसे सफल वर्ष साबित हुआ था जब उन्होंने चीन (China) के ग्वांगझाऊ (Guangzhou) में हुए एशियाई खेलों (ASian Games) में कुल दो स्वर्ण पदक जीते थे। इसमें से एक पदक उन्हें पुरुष एकल में तथा एक पुरुष डबल्स में हासिल हुआ था। इसके अलावा उन्होंने कॉमनवेल्थ खेलों में भी स्वर्ण पदक जीता था।

लेकिन तमाम चोटों से उबरने में वे असफल रहे तथा अंतत: 1 जनवरी 2017 को उन्हें अपने करियर को अलविदा कहना पड़ा।

……………………………………………………………..

6) पिछले कई हफ्तों से राजनीतिक अस्थिरता से गुज़र रहे रोमानिया (Romania) में किसे अगला प्रधानमंत्री (Prime Minister) नामित किया गया है? – सोरिन ग्रिनडियानु (Sorin Grindeanu)

विस्तार: भूतपूर्व संचार मंत्री 43-वर्षीय सोरिन ग्रिनडियानु (Sorin Grindeanu) को वर्ष 2016 की समाप्ति में रोमानिया का अगला प्रधानमंत्री नामित किया गया है। देश के मध्य-दक्षिणपंथी झुकाव वाले राष्ट्रपति क्लॉस लोहानिस (Klaus Lohannis) ने एक आदेश पर हस्ताक्षर कर यह नामांकन किया।

उल्लेखनीय है कि 11 दिसम्बर 2016 को देश में हुए संसदीय चुनावों में वामपंथी पक्षों की जीत के बाद से रोमानिया में अस्थिरता का दौर कायम था। इससे पहले राष्ट्रपति लोहानिस ने सेविल शाहिदेह (Sevil Shhaideh) को देश का अगला प्रधानमंत्री बनाने के प्रस्ताव को अपनी मंजूरी प्रदान नहीं की थी। अगर ऐसे हो जाता तो शाहिदेह देश के इतिहास की महिला प्रधानमंत्री के साथ-साथ पहली मुस्लिम प्रधानमंत्री भी बन जातीं।

अब सोरिन ग्रिनडियानु को 10 दिन के भीतर देश की संसद में विश्वास मत हासिल करना पड़ेगा।

……………………………………………………………..

| Current Affairs | Current Affairs 2017 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2017 समसामायिकी | 2017 करेण्ट अफेयर्स | जनवरी 2017 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.