1-2 फरवरी 2018 करेण्ट अफेयर्स

Site Administrator

Editorial Team

03 Feb, 2018

1340 Times Read.

कर्रेंट अफेयर्स,


RSS Feeds RSS Feed for this Article



Read this in: English

1) केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 1 फरवरी 2018 को वर्ष 2018-19 का केन्द्रीय बजट प्रस्तुत किया। इस बजट में वर्ष 2018-19 में राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) कितना रहने का लक्ष्य रखा गया है? – सकल घरेलू उत्पाद का 3.3%

विस्तार: अपने बजट प्रस्तुतिकरण में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने घोषणा की कि वर्ष 2018-19 में राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) सकल घरेलू उत्पाद (GDP) का 3.3% रहने का अनुमान है जबकि पहले इसके लिए तय लक्ष्य सकल घरेलू उत्पाद का 3.0% तय किया गया था।

उन्होंने यह घोषणा भी कि मौजूदा वित्तीय वर्ष 2017-18 में सरकार ने राजकोषीय घाटे के तय लक्ष्य को पार कर दिया है। इस वर्ष राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद का 3.3% रहने का अनुमान था लेकिन अब इसका संशोधित अनुमान सकल घरेलू उत्पाद का 3.5% है।

……………………………………………………………………….

2) 1 फरवरी 2018 को प्रस्तुत केन्द्रीय बजट में सार्वजनिक क्षेत्र की किन तीन बीमा कम्पनियों का विलय करने का प्रस्ताव रखा गया है? – द ओरियण्टल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड, नेशनल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड और यूनाइटेड इण्डिया इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड

विस्तार: सार्वजनिक क्षेत्र की तीन बीमा कम्पनियों – द ओरियण्टल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड (The Oriental Insurance Co. Ltd.), नेशनल इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड (National Insurance Co. Ltd.) और यूनाइटेड इण्डिया इंश्योरेंस कम्पनी लिमिटेड (United India Insurance Co. Ltd.) का विलय (merger) करने का प्रस्ताव 1 फरवरी 2018 को प्रस्तुत केन्द्रीय बजट में रखा गया है। वित्त मंत्री ने घोषणा की कि इन तीन कम्पनियों का परस्पर विलय कर एक नई कम्पनी का गठन कर उसे शेयर बाजार में सूचीबद्ध (list) किया जायेगा।

इन तीन कम्पनियों का विलय कर एक काफी बड़े आकार की बीमा कम्पनी को अस्तित्व में लाने की सरकार की योजना है तथा इसके द्वारा सरकार के विनिवेश लक्ष्य को भी हासिल करने में भी आसानी होगी।

……………………………………………………………………….

3) वर्ष 2018-19 के केन्द्रीय बजट में उक्त वित्तीय वर्ष के लिए सरकार ने विनिवेश (Disinvestment) लक्ष्य कितना रखा है? – 80,000 करोड़ रुपए

विस्तार: केन्द्र सरकार ने वर्ष 2018-19 के लिए 80,000 करोड़ रुपए का विनिवेश (Disinvestment) लक्ष्य तय किया है। इसी के साथ बजट में यह तथ्य भी प्रस्तुत किया गया कि सरकार चालू वित्तीय वर्ष (2017-18) में 1 लाख करोड़ रुपए विनिवेश के द्वारा हासिल करेगी।

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पिछले वर्ष के बजट में वर्ष 2017-18 के लिए 72,500 करोड़ रुपए का विनिवेश लक्ष्य रखा था। अब तक सरकार 54,338 करोड़ रुपए विनिवेश के द्वारा हासिल कर चुकी है तथा ओएनजीसी-एचपीसीएल (ONGC-HPCL) सौदे से उसे 37,000 करोड़ रुपए और हासिल होंगे जिससे उसे इस वर्ष में 1 लाख करोड़ रुपए हासिल करने में मदद मिलेगी।

……………………………………………………………………….

4) वर्ष 2018-19 के केन्द्रीय बजट में केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने विश्व के सबसे बड़े सरकारी वित्त-पोषित राष्ट्रीय स्वास्थ्य कार्यक्रम की घोषणा की। इस महात्वाकांक्षी योजना का नाम क्या है? – राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (National Health Protection Scheme – NHPS)

विस्तार: वर्ष 2018-19 के केन्द्रीय बजट में वित्त मंत्री ने “राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना” (National Health Protection Scheme – NHPS) की घोषणा की जिसका उद्देश्य देश के गरीब तबके को स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराना है। यह दुनिया का अब तक का सबसे बड़ा स्वास्थ्य कार्यक्रम है जिसके द्वारा देश के 10 करोड़ परिवारों को प्रतिवर्ष 5 लाख रुपए की स्वास्थ्य कवरेज उपलब्ध कराई जायेगी जिससे वे अपना इलाज करा सकेंगे।

“राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना” को वर्तमान में लागू “राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना” (Rashtriya Swasthya Bima Yojana – RSBY) को विस्तारित कर तैयार किया गया है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना में गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले परिवार के 5 सदस्यों को 30,000 रुपए तक का स्वास्थ्य कवर उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है। इस योजना में केन्द्र सरकार 75% प्रीमियम राशि प्रदान करती है जबकि अधिशेष राशि को राज्य सरकारों द्वारा व्यय किया जाता है। इस योजना में देश भर के 15 राज्यों के लगभग 3.6 करोड़ परिवार नामांकित हैं।

……………………………………………………………………….

5) 1 फरवरी 2018 को प्रस्तुत केन्द्रीय बजट में घोषित 4% अधिभार (Cess) का क्या नाम है जो वर्तमान में प्रभावी 3% शिक्षा अधिभार (3% Education Cess) का स्थान लेगा? – “स्वास्थ्य एवं शिक्षा अधिभार” (‘Health and Education Cess’)

विस्तार: वर्ष 2018-19 के केन्द्रीय बजट में “स्वास्थ्य एवं शिक्षा अधिभार” (‘Health and Education Cess’) नामक एक नया अधिभार (Cess) घोषित किया गया है जो जो वर्तमान में प्रभावी 3% शिक्षा अधिभार का स्थान लेगा। इस प्रकार सरकार ने अधिभार में 1% की वृद्धि की है। इस नए अधिभार द्वारा प्राप्त राशि का व्यय गरीब तथा ग्रामीण परिवारों की शिक्षा तथा स्वास्थ्य सुविधाओं पर किया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि वर्तमान में प्रभावी 3% शिक्षा अधिभार में 2% प्राथमिक शिक्षा तथा 1% सेकेण्डरी व उच्च शिक्षा पर खर्च करने की व्यवस्था है तथा इसे व्यक्तिगत आयकर एवं कॉर्पोरेट कर पर लगाया जाता है।

……………………………………………………………………….

6) 1 फरवरी 2018 को प्रस्तुत केन्द्रीय बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने सूचीबद्ध प्रतिभूतियों (listed securities) को बेचने पर एक लाख रुपए से अधिक लाभ पर दीर्घ-कालिक पूँजी लाभ कर (long term capital gains tax – LTCG) लगाने की घोषणा की। उक्त कर को किस वर्ष समाप्त किया गया था? – वर्ष 2005-06 में

विस्तार: उल्लेखनीय है कि इक्विटी प्रतिभूतियों में निवेश को बढ़ावा देने के उद्देश्य से केन्द्र सरकार ने वर्ष 2005-06 में दीर्घ-कालिक पूँजी लाभ कर (long term capital gains tax – LTCG) को समाप्त कर दिया था तथा इसके स्थान पर प्रतिभूति लेन-देन कर (Securities Transaction Tax – STT) नामक एक नया कर शुरू किया था।

लेकिन अब वर्ष 2018-19 के केन्द्रीय बजट में एक बार फिर LTCG की वापसी हुई है तथा वित्त मंत्री ने घोषणा की है कि सूचीबद्ध प्रतिभूतियों को बेचने पर एक लाख रुपए से अधिक लाभ पर 10% की दर से LTCG कर वसूला जायेगा। हालांकि प्रतिभूतियों से जुड़े दूसरे कर – STT को हटाया भी नहीं गया है तथा तमाम विश्लेषकों के अनुसार यह दोहरा-कराधान (double taxation) के जैसा मामला हो गया है। LTCG कर की वापसी को देश के प्रतिभूति बाजार ने पसंद नहीं किया है तथा शेयर बाजार में इसके चलते गिरावट भी दर्ज की गई है।

……………………………………………………………………….

7) 31 जनवरी 2018 को लांच की गई भारतीय नौसेना (Indian Navy) की स्कॉर्पीन श्रेणी (Scorpene class) की तीसरी पनडुब्बी का क्या नाम है? – करंज (Karanj)

विस्तार: आईएनएस करंज (INS Karanj) भारतीय नौसेना की तीसरी स्कॉर्पीन श्रेणी की पनडुब्बी का नाम जिसे नौसेना प्रमुख सुनील लन्बा की पत्नी रीना लन्बा ने मुम्बई स्थित मझगाँव डॉक लिमिटेड (MDL) में आयोजित एक कार्यक्रम में 31 जनवरी 2018 को लांच किया। अब इस पनडुब्बी को समुद्री परीक्षण के लिए भेजा जायेगा तथा इनके सफलतापूर्वक पूरा होने के बाद नौसेना में शामिल किया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि भारत स्कॉर्पीन श्रेणी की कुल छह पनडुब्बियों के निर्माण के लिए फ्रांस (France) की कम्पनी नेवल ग्रुप (पूर्व नाम DCNS) के साथ मझगाँव डॉक लिमिटेड ने करार किया था।

स्कॉर्पीन श्रेणी की पहली पनडुब्बी आईएनएस कलवरी (INS Kalvari) को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दिसम्बर 2017 में नौसेना में शामिल कराया था जबकि इस श्रृंखला की दूसरी पनडुब्बी आईएनएस खण्देरी (INS Khanderi) को 12 जनवरी 2018 को ही लाँच किया गया। आईएनएस करंज के बाद स्कॉर्पीन श्रेणी की तीन और पनडुब्बियाँ लांच की जायेंगी।

……………………………………………………………………….

8) भारतीय टैक्सी एग्रीगेटर कम्पनी ओला (Ola) ने जनवरी 2018 के दौरान किस देश में अपनी टैक्सी सेवाओं की शुरूआत की जोकि भारत के बाहर इस कम्पनी का पहला परिचालन है? – ऑस्ट्रेलिया (Australia)

विस्तार: जापान की निजी निवेश कम्पनी सॉफ्टबैंक (SoftBank) से समर्थित भारतीय टैक्सी एग्रीगेटर कम्पनी ओला (Ola) ने भारत के बाहर अपना पहला परिचालन ऑस्ट्रेलिया (Australia) में 30 जनवरी 2018 को शुरू किया। इस दिन से कम्पनी ने ऑस्ट्रेलिया के तीन शहरों – सिडनी (Sydney), मेलबर्न (Melbourne) और पर्थ (Perth) में किराए पर निजी वाहन मुहैया कराने वाले मालिकों से अपनी ऐप-आधारित टैक्सी सेवा के लिए पंजीकरण कराना शुरू कर दिया। हालांकि ऑस्ट्रेलिया में ओला की सेवाएं विधिवत शुरू होने से पूर्व उसे तमाम अनुमतियाँ हासिल करना शेष है।

……………………………………………………………………….

9) 31 जनवरी 2018 को की गई घोषणा के अनुसार कौन सा जापानी समूह अमेरिका की सुप्रसिद्ध कम्पनी ज़ेरॉक्स कॉरपोरेशन (Xerox Corp.) में नियंत्रण हासिल कर एक नई 18 अरब डॉलर की कम्पनी का गठन करेगी? – फूजीफिल्म होल्डिंग्स कॉरपोरेशन (Fujifilm Holdings Corp.)

विस्तार: टोक्यो में मुख्यालय वाला जापानी समूह फूजीफिल्म होल्डिंग्स कॉरपोरेशन (Fujifilm Holdings Corp.) अमेरिका की सुप्रसिद्ध कम्पनी ज़ेरॉक्स कॉरपोरेशन (Xerox Corp.) में नियंत्रण हासिल कर एक नई 18 अरब डॉलर की कम्पनी का गठन करेगी। इसके साथ ही इस ऐतिहासिक अमेरिकी कम्पनी का स्वतंत्र नियंत्रण समाप्त हो जायेगा तथा इसका नियंत्रण फूजीफिल्म समूह के पास आ जायेगा।

ज़ेरॉक्स का वर्तमान बाजार पूँजीकरण 8.3 अरब डॉलर है। इस सौदे के बाद फूजीफिल्म की ज़ेरॉक्स में 50.1% हिस्सेदारी हो जायेगी।

20वीं सदी के प्रारंभ में अस्तित्व में आई ज़ेरॉक्स को अमेरिकी कॉरपोरेट जगत में दिग्गज कम्पनी का रुतबा हासिल था। कम्पनी को प्रसिद्धि इसके हार्डवेयर उपकरणों से मिली थी लेकिन बाद में तमाम एशियाई कम्पनियों जैसे कैनन ने इसके प्रभुत्व को काफी कम दिया जबकि दूसरी ओर ई-मेल और अन्य इलेक्ट्रॉनिक संचार माध्यमों ने कागज पर संचार की परंपरा को काफी कम कर दिया, जिसपर ज़ेरॉक्स की काफी निर्भरता थी।

……………………………………………………………………….

10) नोएडा (Noida) के राष्ट्रीय मध्यम रेंज मौसम भविष्यवाणी केन्द्र (National Centre for Medium Range Weather Forecasting) में 30 जनवरी 2018 को स्थापित भारत की उच्च प्रदर्शन कम्प्यूटर प्रणाली (High Performance Computer (HPC) system) का क्या नाम है? – “मिहिर” (“Mihir”)

विस्तार: “मिहिर” (जिसका अर्थ सूर्य होता है) भारत की नवीनतम उच्च प्रदर्शन कम्प्यूटर प्रणाली का नाम है जिसका 30 जनवरी 2018 को उत्तर प्रदेश के नोएडा के राष्ट्रीय मध्यम रेंज मौसम भविष्यवाणी केन्द्र में उद्घाटन किया गया।

इसके चलते भारत को मौसम भविष्यवाणी के क्षेत्र में अधिक सटीक पूर्वानुमान देने में मदद मिलेगी। उल्लेखनीय है कि फिलहाल भारत जिला-स्तर पर मौसम पूर्वानुमान देने में सक्षम है लेकिन “मिहिर” सुपर-कम्प्यूटर प्रणाली के कारण अब ब्लॉक-स्तरीय मौसम भविष्यवाणियाँ प्रस्तुत की जा सकेंगी।

……………………………………………………………………….

| Current Affairs | Current Affairs 2018 | IAS | SBI | IBPS | Banking | Bank PO | Banking , Awareness | Daily Current Affairs | Hindi Current Affairs | Hindi GK| करेण्ट अफेयर्स | सामयिकी, समसामायिकी | 2018 समसामायिकी | 2018 करेण्ट अफेयर्स | फरवरी 2018 |


Responses on This Article

© Nirdeshak. All rights reserved.